Top
Home > राजनीति > वंदे मातरम को दें राष्ट्रगान के समान दर्जा, कोर्ट में याचिका दायर

'वंदे मातरम' को दें राष्ट्रगान के समान दर्जा, कोर्ट में याचिका दायर

कोर्ट कानून बनाने का निर्देश केन्द्र सरकार को दे ।

 Sujeet Kumar Gupta |  22 July 2019 9:03 AM GMT  |  नई दिल्ली

वंदे मातरम को दें राष्ट्रगान के समान दर्जा, कोर्ट में याचिका दायर
x

नई दिल्ली। भाजपा नेता और वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है। याचिका में अनुरोध किया गया है कि बंकिम चन्द्र चटर्जी लिखित राष्ट्र गीत 'वंदे मातरम' को रवीन्द्र नाथ ठाकुर लिखित राष्ट्र गान 'जन गण मन' के समान ही सम्मान दिया जाए। न्यायालय कानून बनाने का निर्देश केन्द्र सरकार को दे। इस याचिका पर मंगलवार को सुनवाई होने की संभावना है।

उपाध्याय ने इसमे कहा है कि राष्ट्र गीत ने स्वतंत्रता संग्राम में महती भूमिका निभाई थी और पहली बार, 1896 में रवीन्द्र नाथ ठाकुर ने भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अधिवेशन में राजनीतिक परिप्रेक्ष्य में इसका गायन किया था। याचिका में कहा गया है कि 'जन गण मन' और 'वंदे मातरम' को बराबर सम्मान देना होगा। 'जन गण मन' में जिन भावनाओं को व्यक्त किया गया है, उन्हें राष्ट्र को ध्यान में रखते हुए अभिव्यक्त किया गया है।

उसमें कहा गया है, वहीं, 'वंदे मातरम' में जिन भावनाओं को अभिव्यक्ति दी गई है वह देश के चरित्र को बताता है और उसे भी बराबरी का सम्मान मिलना चाहिए। याचिका में इस उद्घोषणा की मांग की गई है कि 'वंदे मातरम' को 'जन गण मन' के बराबर सम्मान दिया जाएगा और दोनों का दर्जा समान होगा।

हालांकि देश के पहले राष्ट्रपति डॉक्टर राजेन्द्र प्रसाद ने 24 जनवरी 1950 को संविधान सभा की अंतिम बैठक में भी यह बात कही थी कि आजाद हिन्दुस्तान में वंदे मातरम को 'जन-गण-मन' की तरह महत्त्व दिया जाएगा। लेकिन उनकी यह बात कुछ कारणों से अमल में नहीं आ पाई।


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it