Top
Home > राज्य > राजस्थान > अलवर गैंगरेप मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस को लेकर दिया बड़ा बयान

अलवर गैंगरेप मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस को लेकर दिया बड़ा बयान

अलवर गैंगरेप मामले में मायावती ने कहा कि दोषी को फांसी की सजा दी जानी चाहिए?

 Special Coverage News |  11 May 2019 7:02 AM GMT  |  दिल्ली

अलवर गैंगरेप मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कांग्रेस को लेकर दिया बड़ा बयान
x

राजस्थान के अलवर जिले में पति के सामने पत्नी से गैंगरेप मामले में बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि दोषी को फांसी की सजा दी जानी चाहिए। सुप्रीम कोर्ट को राज्य में कांग्रेस सरकार, पुलिस और प्रशासन के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। यह मामला सिर्फ दलितों से नहीं बल्कि सभी महिलाओं से जुड़ा है। आपको बता दें कि गैंगरेप और घटना का वीडियो वायरल करने के मामले के छठे आरोपी को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया।

मायावती ने कहा है कि चुनाव आयोग उन नेताओं के खिलाफ उचित कार्रवाई नहीं कर रहा है जो लोकसभा चुनावों के दौरान महिलाओं के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी कर रहे है।

इस मामले में पुलिस महानिरीक्षक (जयपुर ग्रामीण) एस सेंगाथिर ने बताया कि महिला के साथ सामूहिक दुष्कर्म मामले के छठे आरोपी छोटे लाल गुर्जर को गुरुवार को प्रागपुरा से गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपी का पहले भी लूट और मारपीट का आपराधिक रिकॉर्ड है। उन्होंने बताया कि न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष पीड़िता के बयान दर्ज किये गये हैं।

पुलिस महानिरीक्षक ने बताया कि आरोपी इंद्रराज गुर्जर को शिनाख्त परेड के लिये जेल भेजा गया है जबकि अन्य आरोपियों मुकेश गुर्जर, महेश गुर्जर, अशोक गुर्जर को अदालत में पेश किया गया जहां अदालत ने उन्हें 13 मई तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया। दो अन्य आरोपियों हंसराज और छोटेलाल को शुक्रवार को अदालत में पेश किया जायेगा। भाजपा सांसद एवं केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड ने कहा कि हमने जिला कलेक्टर से लिखित में ज्ञापन देने का समय और स्वीकृति पूर्व में ली थी लेकिन वह सीट पर उपलब्ध नहीं थे। यह गंभीर मामला है। लोग जानना चाहते हैं कि राज्य में लोकसभा चुनाव के दौरान किसने इस मामले को दबाने के निर्देश दिेये।

वहीं भाजपा प्रदेशाध्यक्ष मदन लाल सैनी के कहा कि यह विभत्स अपराध है और राज्य सरकार पर कलंक है। मामले में समय पर कार्रवाई क्यों नहीं की गई। लोकसभा चुनाव में नुकसान को देखते हुए सरकार ने इस मामले को दबाने की कोशिश की है। जिन कांग्रेसी नेताओं ने मामले को दबाने के निर्देश दिये हैं वह भी अपराधी है।

गौरतलब है कि 26 अप्रैल को कुछ लोगों ने थानागाजी-अलवर रोड पर मोटर साइकिल पर जा रहे दंपति को रोका और पति की पिटाई की। उन्होंने पति के सामने महिला का दुष्कर्म किया। एक आरोपी ने उसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया था। आरोपियों ने पीड़िता के पति से धन नहीं देने पर गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी थी। इस संबंध में दो मई को एफआईआर दर्ज की गई थी। पुलिस ने बताया कि सामूहिक दुष्कर्म के एक आरोपी मुकेश ने घटना का वीडियो बनाया था।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it