Top
Breaking News
Home > राज्य > राजस्थान > जयपुर > सचिन पायलट हो सकते हैं राजस्थान के नए मुख्यमंत्री

सचिन पायलट हो सकते हैं राजस्थान के नए मुख्यमंत्री

 Special Coverage News |  20 Jun 2019 4:35 AM GMT  |  जयपुर

सचिन पायलट हो सकते हैं राजस्थान के नए मुख्यमंत्री

कांग्रेस के अध्यक्ष पद को लेकर लगाए जा रहे कयासों में राजस्थान के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत का नाम आगे आया है. गहलोत को राहुल गांधी की जगह पर पार्टी का नया अध्यक्ष बनाया जा सकता है. ऐसे में राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और डिप्टी सीएम सचिन पायलट प्रदेश के नए मुख्यमंत्री होंगे. लोकसभा चुनाव में करारी शिकस्त के बाद प्रदेश सरकार और संगठन में शुरू से बदलाव की चर्चा है और खुद पायलट इसे लेकर फैसला राहुल गांधी पर छोड़ देने की बात कह चुके हैं. अब गहलोत के दिल्ली जाने पर प्रदेश का जिम्मा पायलट के खाते ही आने की संभावना है.

पायलट ने 36 साल की उम्र में संभाला प्रदेशाध्यक्ष का पद

सबसे कम उम्र के सासंद बनने से लेकर 36 साल की उम्र में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष का पद संभालने वाले सचिन पायलट प्रदेश में कांग्रेस का स्टार चेहरा रहे हैं. प्रदेशाध्यक्ष के तौर पर सचिन पायलट ने विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज कराई और सरकार बनाने में कामयाब रहे. हालांकि लोकसभा चुनाव में हार का सामना करना पड़ा लेकिन वो उन्होंने उस दौर में कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष की जिम्मेदारी ली थी, जब कांग्रेस विधानसभा चुनवा में महज 21 सीटों पर राजस्थान में सिमट गई थी, इसके बाद विपक्ष में रहते हुए सचिन पायलट ने पार्टी प्रदेशाध्यक्ष के तौर पर अपनी टीम बनाने के साथ सरकार को लगातार घेरा.

सहारनपुर में जन्मे सचिन पायलट की स्कूली शिक्षा दिल्ली में हुई

7 सितंबर 1977 को उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में जन्मे सचिन पायलट ने अपनी स्कूली शिक्षा दिल्ली के एयरफोर्स बाल भारती स्कूल से की. दिल्ली के ही सेंट स्टीफेंस कॉलेज से उन्होंने अंग्रेजी ऑनर्स में बीए किया. पायलट ने ग्रेजुएशन के बाद बीबीसी के दिल्ली ब्यूरो में कुछ समय के लिए काम किया. इसके बाद पायलट एमबीए करने के लिए अमेरिका चले गए. उन्होंने अमेरिका के पेनिसिलवेनिया यूनिवर्सिटी से एमबीए की डिग्री हासिल की.

पिता राजेश पायलट से राजनीति विरासत में मिली

सचिन के पिता राजेश पायलट कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में एक थे. दौसा के पास सड़क हादसे में पिता राजेश पायलट के निधन के बाद सचिन ने उनकी राजनीतिक विरासत संभाली. बीते 16 साल से पायलट राजनीतिक जीवन में हैं. दरअसल, अपने पिता राजेश पायलट की मौत के बाद सचिन पायलट साल 2002 में 10 फरवरी को कांग्रेस में शामिल हुए. 2004 में पायलट ने राजस्थान की दौसा लोकसभा सीट से लोकसभा का चुनाव लड़ा और करीब 1 लाख 20 हजार मतों से अपने प्रतिद्वन्दी को हराया.

26 साल की उम्र में सचिन पायलट सांसद बने

26 साल की उम्र में सचिन पायलट सांसद निर्वाचित हो गए थे. साल 2009 में पायलट ने राजस्थान की अजमेर लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा और जीत भी दर्ज की, इस बार सचिन पायलट यूपीए-2 सरकार में मंत्री भी बने. यही नहीं अपनी पारिवारिक विरासत को आगे बढ़ाते हुए मंत्री रहने के दौरान प्रादेशिक सेना में पायलट लेफ्टिनेंट भी बन गए. सिख रेजीमेंट की 124 टेरिटोरियल आर्मी बटालियन में अधिकारी के तौर पर उन्हें कमीशन दिया गया. पायलट का सेना में शामिल होना इसलिए भी खास रहा क्योकिं उन्हें लेफ्टिनेंट की मानद रैंक नहीं दी गई बल्कि उन्होंने बाकायदा परीक्षा पास कर इस रैंक को हासिल किया था.

दादा भी भारतीय सेना में अधिकारी

सचिन के पिता राजेश पायलट वायुसेना में स्क्वाड्रन लीडर थे और उनके दादा भारतीय सेना में गैर कमीशन अधिकारी रह चुके थे. राजस्थान में साल 2013 के दिसम्बर में जब विधानसभा चुनाव हुए और सत्ता में रहने के बावजूद कांग्रेस महज 21 सीटें ही जीत पाई तो मझदार में हिचकोले खाती कांग्रेस की नैया पार लगाने की जिम्मेदारी सचिन पायलट को दी गई.

विधानसभा से पहले उपचुनाव में भी जीत दर्ज की

पायलट ने 21 जनवरी 2014 को राजस्थान कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष के तौर पर पद संभाला. हालांकि, उनके पद संभालने के तुरंत बाद हुए लोकसभा चुनाव में कांग्रेस, राजस्थान की सभी 25 सीटें हार गई लेकिन, महज 4 माह बाद 4 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में सचिन पायलट के नेतृत्व में कांग्रेस ने चुनाव लड़ा और 4 में से 3 सीटों पर जीत दर्ज की. 2018 में एक बार फिर दो लोकसभा और एक विधानसभा सीट पर उपचुनाव हुआ और सभी सीटें भाजपा के हाथ से निकलकर कांग्रेस की झोली में चली गई. सचिन पायलट के नेतृत्व में कांग्रेस ने निकाय और पंचायत उपचुनावों में भी बड़ी जीत हासिल की.

पहली बार दाैसा से सांसद बने थे सचिन पायलट

► 7 सितंबर 1977 को यूपी के सहारनपुर में जन्म

► सचिन के पिता राजेश पायलट कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में रहे

► सचिन पायलट 2004 में दौसा सीट से कांग्रेस के टिकट पर जीतकर पहली बार सासंद बने

► 26 साल की उम्र में पहली बार सांसद बने सचिन पायलट

► 31 साल की उम्र में दूसरी बार अजमेर से सांसद बने, केंद्र में मंत्री बने

► केंद्र में कॉर्पोरेट अफेयर्स, संचार मंत्री रहे हैं सचिन

► 36 साल की उम्र में राजस्थान कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष की कमान संभाली

► राजस्थान की राजनीति में सचिन पायलट युवा नेताओं में अग्रणी

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it