Top
Begin typing your search...

अस्पताल में वेंटिलेटर का प्लग हटाकर चला दिया कूलर, मरीज की मौत

अस्पताल में परिजनों ने ही किया ऐसा, मामले की जांच जारी

अस्पताल में वेंटिलेटर का प्लग हटाकर चला दिया कूलर, मरीज की मौत
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

राजस्थान के कोटा जिले से एक ऐसा मामला सामने आया है जहां एक सरकारी अस्पताल में 40 वर्षीय एक शख्स की इसलिए मौत हो गई जब उसके ही परिजनों ने कूलर चलाने के लिए वेंटिलेटर का प्लग कथित तौर पर हटा दिया.

दरअसल, पीटीआई की एक रिपोर्ट के अनुसार 13 जून को एक शख्स को कोरोना वायरस संक्रमण होने के संदेह में महाराव भीम सिंह (एमबीएस) अस्पताल में भर्ती किया गया था. बाद में उस शख्स की रिपोर्ट निगेटिव आई.

इसी बीच शख्स को 15 जून को अलग वार्ड में शिफ्ट कर दिया. अलग वार्ड में बहुत गर्मी थी इसलिए शख्स के ही परिजनों ने वहां कूलर लगा दिया. बताया जा रहा है कि जब कूलर लगाने के लिए कोई सॉकेट नहीं मिला तो उन्होंने वेंटिलेटर का ही प्लग हटा दिया.

लगभग आधा घंटे बाद वेंटिलेटर की बिजली खत्म हो गई. इस बारे में डॉक्टरों को तुरंत सूचना दी गई जिन्होंने मरीज पर सीपीआर आजमाया, लेकिन शख्स की मौत हो गई.

इस घटना के बाद अस्पताल में हड़कंप मच गया. अस्पताल के अधीक्षक डॉ. नवीन सक्सेना ने कहा कि तीन सदस्यीय समिति घटना की जांच करेगी जिसमें अस्पताल के उपाधीक्षक, नर्सिंग अधीक्षक और मुख्य चिकित्सा अधिकारी शामिल हैं. समिति शनिवार को अपनी रिपोर्ट देगी.

उधर, घटना के संबंध में अस्पताल के अन्य अधिकारियों ने कहा कि परिजनों ने कूलर लगाने की अनुमति नहीं ली. उनका आरोप है कि जब मरीज की मौत हो गई तो उन्होंने ड्यूटी पर तैनात रेजिडेंट डॉक्टर और चिकित्सा कर्मियों से दुर्व्यवहार किया. फिलहाल मामले की जांच की जा रही है.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it