Top
Begin typing your search...

मायावती ने प्रियंका गाँधी को इस मामले में घसीटा!

एक महीने में कोटा में 100 बच्चों की मौत के बाद ख़ामोशी क्यों?

मायावती ने प्रियंका गाँधी को इस मामले में घसीटा!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उत्तर प्रदेश की पूर्व सीएम और बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा है कि कांग्रेस शासित राजस्थान के कोटा जिले में हाल ही में लगभग 100 मासूम बच्चों की मौत से माओं का गोद उजड़ना अति-दुःखद व दर्दनाक है. तो भी वहाँ के सीएम अशोक गहलोत स्वयं व उनकी सरकार इसके प्रति अभी भी उदासीन, असंवेदनशील व गैर-जिम्मेदार बने हुए हैं, जो अति-निन्दनीय है.

मायावती ने कहा है कि किन्तु उससे भी ज्यादा अति दुःखद है कि कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेतृत्व व खासकर महिला महासचिव की इस मामले में चुप्पी साधे रखना. अच्छा होता कि वह यू.पी. की तरह उन गरीब पीड़ित माओं से भी जाकर मिलती, जिनकी गोद केवल उनकी पार्टी की सरकार की लापरवाही आदि के कारण उजड़ गई हैं.

उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस की महिला राष्ट्रीय महासचिव राजस्थान के कोटा में जाकर मृतक बच्चों की ''माओं'' से नहीं मिलती हैं तो यहाँ अभी तक किसी भी मामले में यू.पी. पीड़ितों के परिवार से मिलना केवल इनका यह राजनैतिक स्वार्थ व कोरी नाटकबाजी ही मानी जायेगी, जिससे यू.पी. की जनता को सर्तक रहना है.

बता दें कि यूपी कांग्रेस प्रभारी और महासचिव प्रियंका गाँधी यूपी में पीड़ितों के घर घर जाकर मिल रही है , जिससे सपा , बसपा समेत बीजेपी कि नींद उडी हुई है. इधर अब बसपा सुप्रीमों को राजस्थान में प्रियंका को घसीटने का मौका मिला है. क्योंकि बसपा के सभी छह विधायक अब कांग्रेस में शामिल हो चुके है.

राजस्थान के कोटा में जे के लोन अस्पताल के बाल रोग विभाग के एचओडी डॉ अमृत लाल कहते हैं, पिछले दो दिनों में कोटा में 8 नवजात शिशुओं की जान चली गई. "पिछले दो दिनों में विभिन्न कारणों से 8 नवजात शिशुओं की मौत हुई है. जबकि दिसंबर के महीने में 100 मौतें हुई हैं.

इस पर बीजेपी के अमित मालवीय ने कहा है कि एक महीने में १०० नवजात शिशुओं की मौत हो जाती है, और राजस्थान के मुख्यमंत्री से कोई सवाल नहीं पूछे जाते. कोटा इतनी भी दूर नहीं की सोनिया और राहुल गांधी वहाँ जा ना सकें और ये घटना इतनी भी मामूली नहीं की मीडिया कांग्रेस सरकार की इस लापरवाही पर आँख मूँद ले.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it