Top
Begin typing your search...

राजस्थान में सियासी भूचाल : पायलट को नहीं मनाएगी कांग्रेस, मीटिंग में नहीं आए तो होंगे पार्टी से बाहर!

राजस्थान की धरती में कल से ही सियासी तूफान उठा हुआ है.

राजस्थान में सियासी भूचाल : पायलट को नहीं मनाएगी कांग्रेस, मीटिंग में नहीं आए तो होंगे पार्टी से बाहर!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

राजस्थान की धरती में कल से ही सियासी तूफान उठा हुआ है. राजस्थान प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बागी तेवरों के बाद अशोक गहलोत की सरकार पर संकट है. सचिन पायलट का दावा है कि उनके पास 30 के करीब विधायक हैं और सभी उनके साथ जयपुर से बाहर हैं. दूसरी ओर अशोक गहलोत अपनी सरकार बचाने में जुटे हैं और अपने गुट को इकट्ठा कर रहे हैं. अब आज सुबह जयपुर में कांग्रेस के विधायक दल की बैठक होगी, जिसमें तस्वीर पूरी तरह साफ हो जाएगी. वहीं सूत्रों से यह जानकारी सामने आ रही है। अब कांग्रेस बागी हुए सचिन पायलट को मनाने की कवायद नहीं करेगी। जी हां सचिन पायलट को अब कांग्रेस ने ना मनाने का मन बना लिया है।

सोमवार सुबह विधायक दल की बैठक होने वाली है जिसके लिए कांग्रेस पार्टी ने व्हिप जारी किया है. इसमें कहा गया है कि अगर कोई भी कांग्रेस का विधायक बैठक में नहीं आता है तो उसकी सदस्यता जाएगी. कांग्रेस के प्रभारी महासचिव अविनाश पांडे ने कहा है कि 109 विधायकों का समर्थन पत्र मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पास पहुंच गया है और वे सोमवार सुबह मीटिंग में आएंगे. बाकी लोग अगर नहीं आते हैं तो उनकी सदस्यता चली जाएगी. इस पूरे मामले पर बोलते हुए रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि हम किसी व्यक्ति की बात नहीं कर रहे हैं, हमें नहीं लगता है कि कोई नहीं आएगा. हालांकि नेताओं का इशारा साफ तौर पर सचिन पायलट की तरफ माना जा रहा है.

राजस्थान सरकार में ट्रांसपोर्ट मंत्री प्रताप सिंह का कहना है कि अगर सचिन पायलट भाजपा के साथ जा रहे हैं, तो वो पाप कर रहे हैं. हम बीजेपी को सरकार की शपथ नहीं लेने देंगे, हमारी सरकार बहुमत में है और दस बजे हम दिखा देंगे.

सूत्रों की मानें, तो अगर सचिन पायलट और उनके समर्थक आज सुबह होने वाली बैठक में नहीं आते हैं तो पार्टी उनपर एक्शन ले सकती है. इसमें सभी को पार्टी से निकाला जा सकता है. इसके साथ ही राजस्थान का नया प्रदेश अध्यक्ष चुना जाएगा. कांग्रेस पार्टी रघुवीर मीणा को प्रदेश अध्यक्ष बना सकती है.

इससे पहले जयपुर में मुख्यमंत्री आवास पर कांग्रेस की प्रेस वार्ता हुई. अविनाश पांडे, रणदीप सुरजेवाला और अजय माकन ने इसमें हिस्सा लिया. अविनाश पांडे ने कहा कि सोनिया गांधी के निर्देशों पर जयपुर आए हैं. 109 विधायक के समर्थन पत्र की चिट्ठी मुख्यमंत्री को दे चुके हैं. कुछ अन्य विधायक भी संपर्क में हैं. सुबह 10 बजे कांग्रेस विधयाक दल की बैठक है. बैठक को लेकर व्हिप जारी किया गया है. जो बैठक में नहीं होंगे मौजूद, उनके खिलाफ अनुशासनात्मक करवाई की जाएगी. व्हिप का उल्लंघन करने पर पार्टी की सदस्यता समाप्त हो सकती है.

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it