Top
Home > राज्य > राजस्थान > राजस्थान सियासी संग्राम : केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को पूछताछ के लिए SOG ने भेजा नोटिस

राजस्थान सियासी संग्राम : केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को पूछताछ के लिए SOG ने भेजा नोटिस

नोटिस में केंद्रीय मंत्री से पूछताछ का समय मांगा गया है।

 Arun Mishra |  20 July 2020 6:19 AM GMT  |  दिल्ली

राजस्थान सियासी संग्राम : केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को पूछताछ के लिए SOG ने भेजा नोटिस
x

जयपुर : राजस्थान में कांग्रेस के विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले में ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के खिलाफ एसओजी ने नोटिस जारी किया है। ऑडियो क्लिप में गजेंद्र सिंह शेखावत की आवाज होने की वजह से उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जांच कर रही एसओजी की टीम ने सोमवार को गजेंद्र सिंह शेखावत के सरकारी आवास पर नोटिस भेजा है। नोटिस में केंद्रीय मंत्री से पूछताछ का समय मांगा गया है।

कांग्रेस ने की इस्तीफे की मांग

कांग्रेस ने केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के इस्तीफे की मांग करते हुए कहा कि राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार गिराने की साजिश से जुड़ी ऑडियो क्लिप में उनकी आवाज होने के कारण उनके पद पर बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं रह गया है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस ऑडियो क्लिप की प्रमाणिकता पर बीजेपी द्वारा उठाये गये सवालों को खारिज करते हुए एक टीवी चैनल से कहा कि यदि ये मनगढ़ंत टेप हैं तो वह राजनीति छोड़ने को तैयार हैं।

इस ऑडियो में केंद्रीय मंत्री शेखावत की कथित तौर पर आवाज है। राज्य विधानसभा में अगले सप्ताह की शुरूआत में बहुमत साबित करने के गहलोत के कोशिश करने की अटकलों के बीच कांग्रेस ने शेखावत के इस्तीफे की मांग की है। राज्यपाल कलराज मिश्र के साथ शनिवार को गहलोत की 45 मिनट तक हुई बातचीत के बाद ये अटकलें लगाई जा रही हैं।

बीजेपी मामले की जांच CBI से कराने की मांग की

इस मामले में बीजेपी ने सीबीआई जांच की मांग करते हुए कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाया था कि वह अवैध फोन टैपिंग कर रही है। केंद्र ने इन आरोपों पर गहलोत सरकार से एक रिपोर्ट मांगी है। राज्य की 200 सदस्यीय विधानसभा में असंतुष्ट विधायकों सहित कांग्रेस के 107 सदस्य हैं जबकि बीजेपी के 72 विधायक हैं। यदि कांग्रेस के 19 बागी विधायकों को अयोग्य घोषित कर दिया जाता है तो मौजूदा विधानसभा की मौजूदा वास्तविक क्षमता घट कर 181 हो जाएगी और बहुमत के लिये 91 विधायकों के समर्थन की जरूरत होगी तथा गहलोत के लिये बहुमत साबित करना आसान हो जाएगा। इससे पहले, कांग्रेस ने कुछ निर्दलीय सहित अन्य छोटी पार्टियों के विधायकों का समर्थन होने का दावा भी किया था।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Arun Mishra

Arun Mishra

Arun Mishra


Next Story
Share it