Top
Begin typing your search...

21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण होगा काफी संवेदनशील, जबकि जून में कई गृह बदलेंगे अपना स्थान

चंद्र ग्रहण ग्रहण 5 जून की रात को प्रारंभ होगा और 6 जून की सुबह तक रहेगा। ग्रहण की अवधि 3 घंटे 15 मिनट की बताई जा रही है।

21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण होगा काफी संवेदनशील, जबकि जून में कई गृह बदलेंगे अपना स्थान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

जून का महीना

जून का महीना ज्योतिष के लिहाज से कई मायनों में खास है। इस माह सूर्य और चंद्र ग्रहण लगने के साथ-साथ ग्रहों का राशि परिवर्तन भी है और कुछ ग्रह वक्री स्थिति में भी चाल चलने लगेंगे। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहों की जरा सी हलचल भी मानव जीवन पर गहरा प्रभाव डालती है, इसलिए आपके लिए यह जानना बहुत आवश्यक है कि जून के किस तारीख को क्या घटित होने जा रहा है।

आगामी 5 जून को चंद्र ग्रहण लगेगा, यह उपच्छाया ग्रहण है इसलिए जानकारों के अनुसार इसमें सूतक काल कुछ खास मायने नहीं रखता। चंद्र ग्रहण ग्रहण 5 जून की रात को प्रारंभ होगा और 6 जून की सुबह तक रहेगा। ग्रहण की अवधि 3 घंटे 15 मिनट की बताई जा रही है।

सूर्य बदलेंगे राशि

सूर्य हर माह अपनी राशि बदलते हैं, 15 जून, 2020 को इनका प्रवेश मिथुन राशि में होगा। विशेषज्ञों के अनुसार 15 जून सुबह 6 बजकर 45 मिनट पर सूर्य वृषभ राशि को छोड़कर मिथुन राशि में प्रवेश कर जाएंगे।

मंगल का राशि परिवर्तन

ग्रहों के सेनापति मंगल भी जून के महीने में राशि परिवर्तन करने जा रहे हैं। आगामी 18 जून को रक्त के प्रतिनिधि कुंभ राशि से निकलकर मीन राशि में प्रवेश करेंगे। विशेषज्ञों के अनुसार यह बदलाव रात 9 बजे 35 मिनट पर होगा।

बुध की वक्री चाल

18 जून 2020 को बुध मार्गी की जगह वक्री चाल चलने लगेंगे। ज्योतिषशास्त्रियों के अनुसार रात 8 बजकर 43 मिनट पर बुध वक्री चाल चलेंगे । 12 जुलाई को बुध पुन: मिथुन राशि में मार्गी हो जाएंगे।

सूर्य ग्रहण

जानकारों के अनुसार 21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण काफी संवेदनशील होने वाला है, क्योंकि यह वो समय है जब 1 नहीं बल्कि 6 ग्रह शनि, गुरु, शुक्र और बुध वक्र चाल चल रहे होंगे, राहु और केतु वैसे भी वक्री ही चलते हैं। यह सूर्य ग्रहण खंडग्रास के रूप में भारत में अपना प्रभाव डालेगा, इसलिए गर्भवती स्त्रियों को इस दौरान विशेष ध्यान रखने की सलाह दी जा रही है।

बृहस्पति बदलेंगे राशि

30 जून, 2020 को बृहस्पति जो वक्री चाल चल रहे हैं, मकर राशि में निकलकर धनु राशि में प्रवेश करेंगे। ज्योतिषशास्त्रियों के अनुसार यह बदलाव 30 जून को प्रात: 4 बजकर 46 मिनट पर होगा।

शुक्र का मार्गी होना

25 जून को वक्री शुक्र, रात 4 बजकर 28 मिनट पर मार्गी हो जाएंगे। 1 अगस्त को वृषभ राशि से निकलर ये मिथुन राशि में प्रवेश करेंगे।


Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it