Top
Begin typing your search...

इस बार नौका पर आ रहीं हैं माँ दुर्गा, 2 गुरुवार ला रहे हैं ये बड़ी खुशियाँ

इस बार नौका पर आ रहीं हैं माँ दुर्गा, 2 गुरुवार ला रहे हैं ये बड़ी खुशियाँ
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

आपको ये तो पता होगा कि इस बार के शारदीय नवरात्रि अनेक वर्षों बाद एक बेहद शुभ संयोग लेकर आ रहे हैं। ये ग्रह संयोग बेहद विशेष हैं और पंचांग के मुताबिक इन दिनों में उपासना करने का फल अभूतपूर्व साबित होगा। लेकिन शायद आपको न पता हो इस बार माँ दुर्गा 10 अक्टूबर 2018 बुधवार के दिन नाव पर सवार होकर आ रही है। नौकावाहन पर आगमन होने से सर्वसिद्धि की प्राप्ति होती है। इस वर्ष नवरात्रि 9 दिन हो जाने के चलते पूरा संयोग ही बेहद शुभ साबित होने वाला है।

जब भी 9 दिन नवरात्रि मनाई जाती है तो ये दिन शक्ति की उपासना के लिए बेहद शुभ होते हैं। देश में खुशहाली के संकेत हैं।

बुधवार 10 अक्टूबर को पंचांग के मुताबिक चित्रा एवं वैधृति योग है । चित्रा एवं वैधृति में कलश स्थापन आदि का निषेध है।

अत: कलश स्थापनादि कृत्य पूर्वाह्न काल प्रतिपत्तिथि (दिन 7:56) मे ही सम्पन्न कर लेना चाहिये। यदि संभव हो तो निषेध का पालन करें लेकिन प्रतिपत्तिथि तथा पूर्वाह्न काल का अतिक्रमण नही होना चाहिये।

अभिजित् मुहुर्त पर कलश स्थापन करने वालों के लिए अभिजित् मुहूर्त में (दिन 11:37 से दिन 12:23 तक) कलश स्थापन होगा। इस बार अभिजीत मुहूर्त धनु लग्न में आ रहा है। ऐसे में धनु लग्न में ही कलश स्थापना श्रेष्ठ है। सूर्योदय के बाद व अभिजित् मुहूर्त में कलश स्थापना करना चाहिए।

नव दिन की नवरात्रि में दो गुरुवार आएंगे यह अत्यंत शुभ संयोग है क्योंकि गुरुवार को दुर्गा पूजा का हजार, लाख गुना नहीं करोड़ गुना फल मिलता है। लाभ, शुभ, अमृत (राहु काल छोड़ कर) स्थिर लग्न में घट स्थापना कर सकते हैं। ग्रह स्थिति में स्वगृही शुक्र आदि योग से नवरात्रि अत्यंत शुभ मानी जा रही है। इसके साथ ही इस बार नवरात्रि में 9 दिन राजयोग, द्विपुष्कर योग, सिद्धियोग, सर्वार्थसिद्धि योग, सिद्धियोग और अमृत योग के संयोग बन रहे हैं। इन विशेष योगों में की गई खरीदारी अत्यधिक शुभ और फलदायी रहती है।

महाष्टमी व्रत- बुधवार 17 अक्टूबर

महानवमी व्रत- गुरुवार 18 अक्टूबर

विजयादशमी, नवरात्रिव्रतपारण- शुक्रवार 19 अक्टूबर

ज्योतिषाचार्य पं गणेश प्रसाद मिश्र

लब्धस्वर्णपदक, शोध छात्र, ज्योतिष विभाग, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय

Special Coverage News
Next Story
Share it