Top
Begin typing your search...

बद्रीनाथ धाम खुलने की तैयारियां पूरी, कल खुलेंगे कपाट

शुक्रवार ब्रह्ममुहूर्त में 4 बजकर 30 मिनट पर भगवान बद्रीविशाल के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिए जाएंगे

बद्रीनाथ धाम खुलने की तैयारियां पूरी, कल खुलेंगे कपाट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

उत्तराखंड के प्रसिद्ध बद्रीनाथ धाम के कपाट के खोलने की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं. तैयारियों को अंतिम रूप देते हुए ब्रदीनाथ मंदिर प्रशासन ने गेंदे के फूलों से धाम को भव्य तरीके से सजाया है.

गुरुवार दोपहर 12 बजे शंकराचार्य की गद्दी, उद्धव और कुबेर की डोली भी पांडुकेश्वर से बद्रीनाथ धाम पहुंच चुकी है. शुक्रवार ब्रह्ममुहूर्त में 4 बजकर 30 मिनट पर भगवान बद्रीविशाल के कपाट ग्रीष्मकाल के लिए खोल दिए जाएंगे. कोरोना वायरस संकट के चलते मीडियाकर्मियों को कपाट खुलने के दौरान मौजूद रहने की इजाजत नहीं दी गई है. कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर प्रशासन ने यह फैसला किया है.

श्रद्धालुओं के बिना ही खुलेंगे कपाट!

अब तक सामने आई जानकारी के मुताबिक लॉकडाउन के चलते मंदिर आम श्रद्धालुओं के प्रवेश की इजाजत नहीं हो सकती है. कोरोना संकट के बीच सभी धार्मिक प्रतिष्ठानों से जनता की दूरी बनी हुई है.लोग धार्मिक स्थलों से दूरी बनाए हुए हैं. कोरोना से बचने के लिए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की सलाह दी जा रही है, ऐसे में मंदिर आम श्रद्धालुओं के लिए खोला जाएगा तो संक्रमण के फैला की आशंका बनी रहेगी.

शुभ मुहूर्त देखकर खुलता है कपाट

हिंदुओं के चार धामों में एक भगवान विष्णु के इस मंदिर में लाखों श्रद्धालु जुटते हैं. भगवान बद्रीनाथ के कपाट शुभ मुहूर्त देखकर ही खोले जाते हैं. इस दिन वैदिक मंत्रोचारण के साथ पारंपरिक तरीके से पूजा होती है फिर मंदिर के कपाट खुलते हैं. देशभर के श्रद्धालु लाखों की संख्या में भगवान बद्रीनाथ के दर्शन के लिए आते हैं. कोरोना संकट के चलते इस बार श्रद्धालु मौजूद नहीं रहेंगे.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it