Top
Begin typing your search...

T20 सेमीफाइनल में फेंकीं गयी नो-बॉल पर अश्विन ने बयां किया 'दर्द'

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
Ravichandran Ashwin



नई दिल्ली : टी20 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया वेस्टइंडीज के हाथों सेमीफाइनल हारने के बाद टूर्नामेंट से बाहर हो गई थी। उस हार की बड़ी वजह बनी भारतीय गेंदबाजों द्वारा फेंके गए नो बॉल। इस नो बॉल को लेकर भारतीय आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने अपना दर्द बयां किया है।

रविचंद्रन अश्विन ने कहा कि वेस्ट इंडीज के खिलाफ टी20 विश्व कप सेमीफाइनल में दो में से एक नो बॉल फेंकने के लिये उसे विलेन नहीं बनाया जाना चाहिये । अश्विन ने एक नो बॉल फेंकी थी जिस पर मैन ऑफ द मैच लैंडन सिमंस को जीवनदान मिला था । सिमंस की पारी के दम पर ही वेस्ट इंडीज ने 193 रन का लक्ष्य हासिल करके जीत दर्ज की थी ।

आईपीएल में राइजिंग पुणे सुपरजाइंट्स के सदस्य अश्विन ने कहा, 'उस दिन जब मैं घर गया तो मेरे कुत्ते को लू लग गई थी। इससे मुझे पता चला कि क्या अधिक महत्वपूर्ण है और क्या बहुत अहम है। मैने अगले तीन दिन पेपर नहीं पलटा। मैने नहीं पढा कि लोग क्या कह रहे हैं।'

उन्होंने कहा, 'कई बेहतरीन पत्रकारों और जानकार लोगों ने कहा कि मैने बरसों से नो बॉल नहीं फेंकी थी और वह नो बॉल फेंककर मैं विलेन नहीं बन गया। यदि ऐसी धारणा है तो मुझे नहीं पता कि उसका जवाब कैसे देना है।'

यह पूछने पर कि ओस के कारण गीली गेंद से गेंदबाजी करना उन्हें कैसा लगा, उन्होंने कहा, ‘जिस समय ओस थी, मैने गेंदबाजी नहीं की। मुझे नहीं पता कि उस समय कैसा लगा होगा।’ उन्होंने यह सवाल पूछने वाले पत्रकार से कहा, ‘मैं आपको दोष नहीं दे रहा। लेकिन आपको जिम्मेदारी से लिखना चाहिये क्योंकि उसे पढकर लाखों लोग अपनी राय बनाते हैं।’

महेेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली पुणे टीम के बारे में पूछने पर अश्विन ने कहा कि वह नयी चुनौती का इंतजार कर रहे थे। उन्होंने कहा,‘यह नई शुरूआत है। मेरे लिए यह नई टीम है और नई चुनौती है जिसका मुझे इंतजार था। नए माहौल में ढलना काफी अहम है। मैं काफी रोमांचित हूं।’ उन्होंने स्वीकार किया कि भारतीय टीम के खिलाडिय़ों के लिए एशिया कप, टी20 विश्व कप के बाद आईपीएल में खेलना कठिन है।
Special News Coverage
Next Story
Share it