Home > खेलकूद > क्रिकेट > रिओ ओलम्पिक में जिनसन जॉन्सन ऐसा प्रदर्शन करते तो जीत जाते गोल्ड

रिओ ओलम्पिक में जिनसन जॉन्सन ऐसा प्रदर्शन करते तो जीत जाते गोल्ड

एशियन गेम्स 2018 में भारत के खिलाड़ियों ने ट्रैक ऐंड फील्ड में शानदार खेल का प्रदर्शन किया है.

 Alok Mishra |  31 Aug 2018 6:01 AM GMT  |  नई दिल्ली

रिओ ओलम्पिक में जिनसन जॉन्सन ऐसा प्रदर्शन करते तो जीत जाते गोल्ड

नई दिल्ली : एशियन गेम्स 2018 में भारत के खिलाड़ियों ने ट्रैक ऐंड फील्ड में शानदार खेल का प्रदर्शन किया है। इसी स्पर्धा के एक नायक हैं जिनसन जॉनसन। भारत के इस ऐथलीट ने 800 मीटर की दौड़ में सिल्वर के बाद पुरुषों की 1500 मीटर दौड़ में गोल्ड मेडल हासिल किया। जिनसन जॉनसन ने इस गोल्ड के लिए जैसा प्रदर्शन किया, उसकी तुलना अगर 2016 में हुए रियो ओलिंपिक से की जाए, तो उन्हें वहां भी गोल्ड मिल जाता।


जॉनसन ने 1500 मीटर की दौड़ में सोना जीतने के लिए 3:44:72 सेकंड का समय लिया। रियो ओलिंपिक में इस स्पर्धा के विजेता मैथ्यू ने 3:50:00 सेकंड का समय निकालकर गोल्ड जीता था। यानी जॉनसन ओलिंपिक के गोल्ड मेडल प्रदर्शन से भी उम्दा खेल दिखा गए। हालांकि अभी यह जॉनसन का बेस्ट नहीं है। जॉनसन अभी तक का अपना बेस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स के दौरान ही दिखा चुके हैं।


इसी साल कॉमनवेल्थ गेम्स में जॉनसन ने इस स्पर्धा में गोल्ड जीता था। तब उन्होंने 1500 मीटर की दौड़ को पूरा करने के लिए 3:37:62 सेकंड का अपना सर्वश्रेष्ठ समय निकाला था। आपको बता दें कि भारत के ट्रैक ऐंड फील्ड खिलाड़ियों ने उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन करते हुए गुरुवार को भारत के खाते में कई मेडल डाले।


भारत ने इस स्पर्धा का अंत सात गोल्ड, 10 सिल्वर और दो ब्रॉन्ज मेडल के साथ किया जो 1978 से उसका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन है। जॉनसन 800 मीटर दौड़ के गोल्ड मेडल की होड़ में हमवतन मनजीत सिंह से पिछड़ गए थे लेकिन 1500 मीटर की दौड़ में वह इसकी भरपाई करने में सफल रहे। जॉनसन ने ईरान के आमिर मोरादी (तीन मिनट 45 . 62 सेकेंड) को पछाड़कर गोल्ड मेडल हासिल किया।


इस जीत के बाद जॉनसन ने कहा, 'यह गेम्स चार साल बाद आते हैं, इसलिए मेरी यह जीत चार साल पहले के बदले की तरह है। फिनिशिंग हमेशा से मेरा कमजोर पक्ष रहा है। लिहाजा आज मैंने आखिरी 80 मिनट के लिए अपनी ऊर्जा बचाए रखी थी।'

Tags:    
Share it
Top