Top
Home > खेलकूद > क्रिकेट > बुमराह की धार को कम करने के लिए न्यूजीलैंड ने अपनाया ये तरीका

बुमराह की धार को कम करने के लिए न्यूजीलैंड ने अपनाया ये तरीका

New Zealand adopted this method to reduce the edge of Bumrah

 Arun Mishra |  18 Feb 2020 1:30 PM GMT

बुमराह की धार को कम करने के लिए न्यूजीलैंड ने अपनाया ये तरीका

न्यूजीलैंड के पूर्व तेज गेंदबाज शेन बॉन्ड ने कहा कि उनकी टीम ने जिस तरह से भारतीय तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह का सामना किया उससे दूसरी टीमें सीख लेंगी.

'खराब नहीं थी जसप्रीत बुमराह की बॉलिंग, न्यूजीलैंड ने चली थी ये चाल'

बुमराह न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज में एक भी विकेट नहीं ले सके थे. सीरीज में उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन करने में नाकाम रहने पर बुमराह को आलोचना का सामना करना पड़ा था, लेकिन बॉन्ड ने उनका बचाव किया.

बॉन्ड ने कहा, 'जब आपके पास जसप्रीत बुमराह की तरह का गेंदबाज हो तो जाहिर है उससे काफी उम्मीदें होंगी.' उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि न्यूजीलैंड ने उन्हें खतरा माना और उनका सामना सही तरीके से किया.' उन्होंने कहा, 'बुमराह के साथ टीम में अनुभवहीन गेंदबाज (नवदीव सैनी और शार्दुल ठाकुर) थे जिसका फायदा न्यूजीलैंड को हुआ.'

बॉन्ड ने कहा, 'अब हर टीम उन्हें खतरे की तरह देखेगी और दूसरे गेंदबाजों के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाएंगी.' बॉन्ड ने हालांकि कहा कि भारतीय टीम सीरीज 0-3 से हार गई, लेकिन बुमराह की गेंदबाजी बुरी नहीं थी. उन्होंने कहा, 'आप मैच में अच्छा करना चाहते हैं. उन्होंने अच्छी गेंदबाजी की, लेकिन कई बार आपको विकेट नहीं मिलता.'

आईपीएल में मुंबई इंडियंस के गेंदबाजी कोच के तौर पर बुमराह के साथ समय बिताने वाले बॉन्ड ने कहा कि यह भारतीय गेंदबाज दो टेस्ट की सीरीज में 'काफी प्रभाव' डालेगा.

शेन बॉन्ड ने कहा, 'जब आप खराब प्रदर्शन से वापसी करते हैं तब लय हासिल करना हमेशा मुश्किल होता है. उन्हें इस सीरीज से पहले ज्यादा मैचों में खेलने का मौका नहीं मिला. न्यूजीलैंड ने वनडे सीरीज में अच्छे से उनका सामना किया, लेकिन टेस्ट मैचों में उनका काफी प्रभाव होगा. मुझे इसमें कोई संदेह नहीं है.'

न्यूजीलैंड को उनके घरेलू मैदान में हराना काफी मुश्किल होता है और बॉन्ड को उम्मीद है कि विलियमसन पांच तेज गेंदबाजों के साथ मैच में जाएंगे. उन्होंने कहा, 'न्यूजीलैंड की विकेट के बारे में सबसे बड़ी बात यह है कि यहां गेंद स्पिन नहीं होती है. जो भी टॉस जीतता है वह पहले गेंदबाजी करना चाहता है, क्योंकि पहले दिन पिच से सबसे ज्यादा मदद मिलती है.'

शेन बॉन्ड ने कहा, 'अगर न्यूजीलैंड की टीम बिना किसी स्पिनर के मैच में उतरे तो भी मुझे आश्चर्य नहीं होगा. मैं भी स्पिनर को टीम में नहीं रखना चाहूंगा क्योंकि उसका काम सिर्फ रनगति पर अंकुश लगाना होता है.'

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Arun Mishra

Arun Mishra

Arun Mishra


Next Story

नवीनतम

Share it