Top
Begin typing your search...

सेना ने की अपीलः आम नागरिक ना पहने सैनिकों की वर्दी

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
bardi

सेना की वर्दी पहन आतंकियों द्वारा पठानकोट हमले के बाद सेना ने नागरिकों से 'सेना की वर्दी' से मिलते-जुलते कपड़े ना पहनने की अपील की है। सेना ने दुकानदारों से भी अपील की है कि वे नागरिकों को इस तरह के कपड़े ना बेचें। सेना ने आतंकी हमलों से बचने और आतंकवाद के साथ मुकाबला करने के लिए आम नागरिकों को संबोधित एक ताजा दिशा-निर्देश में यह अपील की है।

गैरकानूनी है आम लोगों का वर्दी पहनना
इस आधिकारिक अपील में कहा गया है कि सेना की वर्दी से मिलते-जुलते कपड़े बेचना और खरीदना कानून अपराध है। एक अधिकारी ने बताया, 'आम नागरिकों द्वारा ऐसे कपड़े पहनना गैरकानूनी है और इससे गलत संकेत जाता है।' अधिकारी ने आगे कहा, 'जो व्यापारी और दुकानदार सेना की वर्दी बेचने में दिलचस्पी रखते हैं, उन्हें स्थानीय सैन्य प्रशासन व अधिकारियों से संपर्क कर सेना की दुकानों व मान्यता प्राप्त जगहों में इन वर्दियों को बेचने की अनुमति मांगनी चाहिए। अनुमति मिलने के बाद ही उन्हें सेना की वर्दी बेचनी चाहिए। अनधिकृत लोगों को सेना की वर्दी बेचना गैरकानूनी है। यह दिशानिर्देश जनहित में जारी किया गया है और इसका मकसद आतंकी हमलों से सुरक्षा है।'

सेना की वर्दी से लोगों को गलतफहमी
सेना ने कहा है कि आम नागरिकों द्वारा सेना की वर्दी पहनने से आतंकियों को अपने मंसूबे पूरे करने में मदद मिल सकती है। सेना की वर्दी से लोगों को गलतफहमी हो सकती है और आतंकी-अपराधी इसका बेजा फायदा उठाकर देश को नुकसान पहुंचा सकते हैं। सेना ने सुरक्षाबलों और पूर्व सैन्यकर्मियों के परिवारों व रिश्तेदारों से भी अपील की है कि वे सेना की वर्दी या फिर इससे जुड़ा कोई भी सामान इस्तेमाल में ना लाएं। सेना ने पुलिस और प्रशासन से भी अपील की है कि वे इस नियम का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करें।

युवा करें एक जन अभियान शुरू
सेना के प्रवक्ता ने कहा, 'हम देश के युवाओं से अपील करते हैं कि वे सोशल मीडिया के द्वारा इस विषय में अधिक-से-अधिक लोगों को जागरूक करें।युवा मिलकर सेना की वर्दी-उपकरण के गलत और बेजा इस्तेमाल के खिलाफ एक जन अभियान शुरू करें।' उन्होंने कहा कि सेना और पुलिस को सैन्य वर्दी पहनकर और कंधे पर बैग टांगकर घूम रहे संदिग्ध लोगों के बारे में जानकारी मिलती रहती है।
स्रोत आज तक

Special News Coverage
Next Story
Share it