Breaking News
Home > Archived > बसपा का गढ भेदना विपक्षी पार्टीयों के बूते से बाहरः नसीमुद्दीन

बसपा का गढ भेदना विपक्षी पार्टीयों के बूते से बाहरः नसीमुद्दीन

 Special News Coverage |  13 Feb 2016 9:00 PM GMT

बसपा का गढ भेदना विपक्षी पार्टीयों के बूते से बाहरः नसीमुद्दीन

सहारनपुर (दिनेश मौर्या): बहुजन समाज पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव एंव पूर्व कैबिनेट मन्त्री नसीमुदिन सिद्दिकी ने कहा कि जिला सहारनपुर बसपा का ऐसा गढ हेेेे,जिसे भेद पाना किसी भी विपक्षी पार्टी के बूते से बाहर हैं। विधान परिषद की स्थानीय निकाय सीट पर भी बहुजन समाज की ताकत से बसपा प्रत्याशी महमूद अली की ही जीत होगी।

राष्ट्रीय महासचिव एंव पूर्व कैबिनेट मन्त्री सिद्दिकी आज यहां जिलाधिकारी आवास रोड पर स्थित एक वैंकट हॅाल में बसपा के नव निर्वाचित बी.डी.सी,ब्लाक प्रमुख, जिला पंचायत सदस्यों के मण्डलीय सम्मेलन को मुख्य अतिथि के रुप मे सम्मबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सहारनपुर ने हमेशा ही बहुजन समाज पार्टी का जनाधर बढाने का काम किया हैं। ग्राम पंचायत से लेकर जिला पंचायत तक में बसपा का झन्डा बुलन्द सर्व समाज ने साबित कर दिया है कि इस बार उत्तर प्रदेश में सु़श्री मायावती के नेतृत्व में बहुजन समाज पार्टी की सरकार बनेगी। उन्होंने कहा कि इससे पहले बसपा का एक-एक कार्यकत्र्ता एम.एल.सी. के चुनाव में महमूद अली को भारी मतों से जिताने का काम करें। सम्मेलन को विधायक जगपाल सिहं, विधायक रविन्द्र मोल्हू, विधायक डाॅ.धर्मसिहं सैनी, निवर्तमान एमएलसी हाजी मौहम्मद इकबाल, मण्डल कोर्डिनेटर मुकेश जाटव, नरेश गौतम, यशवीर सिहं, रामनिवास पाल, कल्याणसिहं,जिलाध्यक्ष जनेश्वर प्रसाद, प्रतापसिंह, लोधी कुमार, कुलदीप बालियान, प्रदीप सैनी, प्रेमचन्द्र गौतम, वीरसिहं, वेदपाल वाल्मीकि, योगेशकुमार, नरेश कुमार एंव जिला पंचायत सदस्य रकमसिहं सैनी मुख्य रूप से मौजूद रहें।



बसपा का गढ भेदना विपक्षी पार्टीयों के बूते से बाहरः नसीमुद्दीन

बसपा प्रत्याशी महमूद ने भरा पर्चा
सहारनपुर। चर्चाओं में बने निवर्तमान विधान परिषद सदस्य हाजी मौहम्मद इकबाल के अनुज भ्राता महमूद अली ने सहारनपुर-मुजफ्फरनगर स्थानीय निकाय प्राधिकारी विधान परिषद सीट के लिए दल-बल के साथ अपनी नामजदगी का पर्चा रिटर्निंग अधिकारी के समक्ष भरा। नामांकन के दौरान निवर्तमान एमएलसी हाजी मौहम्मद इकबाल, पूर्व ब्लाक प्रमुख राव लईक अहमद, विधायक जगपाल सिंह, विधायक रविन्द्र मोल्हू, विधायक डा. धर्म सिंह सैनी, ब्लाॅक प्रमुख हंसराज गौतम, योगेश कुमार, जिला पंचायत अध्यक्ष प्रतिनिधि माजिद अली एवं गालिब हसन मुख्य रूप से मौजूद रहे।

रिम झिम बुंदा बांदी के बीच देवबंद में पड़े 51 प्रतिशत वोट
- समस्याओं को लेकर कुछ सयम के लिये कई गावं में हुआ मतदान का बहिष्कार
- मुस्लिम बहुल्य क्षेत्रों में साईकिल व पंजे पर पड़े वोट

सहारनपुर। रिम झिम बुंदा बांदी के बीच देवबंद विधान सभा क्षेत्र के उपचुनाव के लिये आज मतदान शान्ति पूर्ण सम्पन्न हो गया। कडी सुरक्षा व्यवस्था के बीच 50 से 51 प्रतिशत के बीच मतदान हुआ। स्थानीय मुद्दों को लेकर कई गांव के ग्रामीणों ने कुछ सयम के लिये मतदान का बहिष्कार किया परन्तु पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने मौके पर पहुंच कर ग्रामीणों को समझा बुझाकर मतदान शुरू कराया।

देवबंद उपचुनाव केा लेकर आज हुए मतदान के दौरान सुबह से ही रूक-रूक कर बुंदा बांदी हो रही थी जिसके कारण दोपहर तक मतदान की गति धीमी रही। दोपहर के बाद जैसे ही आसमान में सूर्य देवता ने दर्शन दिये तो मतदान की गति ने भी रफतार पकड ली। समाचार लिखे जाने तक 50 से 51 प्रतिशत तक के बीच मतदान हो चुका था। विधान सभा क्षेत्र के गावं इंद्रपुर में भूमाफियाओं द्वारा शमशान भूमि पर अवैध कब्जा किये जाने के विरोध में ग्रामीणों ने मतदान का बहिष्कार किया। परन्तु पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों ने मौके पर पहुंच कर ग्रामीणों को समझा बुझाकर मतदान शुरू कराया। गावं अब्दुल्लापुर में पिछले दिनों हुई एक हत्या का खुलासा न होने तथा गांव किशनपुर में सिचांई व्यवस्था सुचारू न होने के कारण ग्रामीणों द्वारा मतदान बहिष्कार की खबरें मिली है। तहसीलदार देवबंद आलोक गुप्ता ने बताया कि क्षेत्र मे चुनाव शान्तिपूर्ण सम्पन्न हो गया है और जहां कहीं मतदान को लेकर बहिष्कार की खबरें थी उनका अधिकारियों ने मौके पर पहुंच कर मतदान शुरू कराया। मुस्लिम बहुल्य क्षेत्रों में मतदाओं का रूझान सपा एवं कांग्रेस की ओर देखने को मिला। जबकि हिन्दु बाहुल्य गांव में मतदान का प्रतिशत काफी कम रहा।

बजट में व्यापारी वर्ग व सहारनपुर की उपेक्षा दुर्भाग्यपूर्ण: टण्डन
सहारनपुर। उ.प्र. उद्योग व्यापार प्रतिनिधिमंडल की जिला इकाई की प्रमुख पदाधिकारियों की स्थानीय रेलवे रोड पर आयोजित एक बैठक आयोजित की गयी। समीक्षा बैठक में जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन व संयुक्त जिला महामंत्री संजय भसीन ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा गत दिवस प्रदेश के विधानसभा में प्रस्तुत वर्ष 2016-17 के बजट में पूरे प्रदेश के व्यापार व उद्योग जगत की सुविधाओं व उनके उत्पीड़न को रोकने के लिए कोई भी घोषणा न किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने जहां समाज के विभिन्न वर्गो की कल्याण की योजनाएं घोषित की है, वह तो स्वागत योग्य है, साथ ही नौजवानों और किसानों को खास तवज्जो दी है, बुंदेलखण्ड व पूर्वांचल के लिए विशेष प्रावधन भी किये हैं और ग्रामीण क्षेत्रों में मूलभूत सुविधओं को बढाये जाने पर जोर दिया है और वर्ष 2016-17 को किसान व युवा वर्ष मनाने की घोषणा भी है। श्री टण्डन ने कहा कि प्रदेश के कुल राजस्व का 60 प्रतिशत विभिन्न करों के रूप में व्यापारी और उद्यमी देता है और इसमें भी पश्चिमी उ.प्र. ज्यादा राजस्व देता है। परंतु अनेक वर्षों से प्रदेश सरकार द्वारा इसी वर्ग की सबसे ज्यादा उपेक्षा की जा रही है। वैट की दरों पर लगाया गया सरचार्ज नहीं हटाया गया और अनेक वर्षों से वैट की लम्बित राशि पर ब्याज माफी योजना की भी घोषणा नहीं की गयी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा सहारनपुर और व्यापारियों और उद्यमियों को राहत देने के लिए विधानसभा में बजट के दौरान संशोधन किये जाने चाहिए। श्री टण्डन ने इस बात पर भी खेद प्रकट किया कि जनपद के विकास की अनदेखी में सभी राजनीतिक दलों के जनप्रतिनिधियो की उदासीनता भी जनहित में नहीं है। बैठक में प्रमुख रूप से जिलाध्यक्ष शीतल टण्डन, संयुक्त जिला महामंत्री संजय भसीन, जिला कोषाध्यक्ष स.राजपाल सिंह, प्रांतीय उपा. यशपाल मैनी, कृष्ण लाल ठक्कर, महेश नारंग, अमित गगनेजा, मेजर एस.के.सूरी, रमेश अरोडा, कमल गुप्ता, रमेश डाबर, संजय मित्तल, पवन गोयल, बलदेव राज खुंगर, अवनीश गर्ग, संजीव सचदेवा आदि व्यापारी प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top