Top
Begin typing your search...

सीएम केजरीवाल करेंगे मंत्रिमंडल विस्तार, 2 मंत्रियों का हटना तय

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली
‘आप’ सरकार ने अपने एक साल के कार्यकाल के बाद बड़ा फेरबदल करते हुए 2 मंत्रियों को हटाने का फैसला किया है। साथ ही उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया को छोड़कर अन्य सभी मंत्रियों के विभाग बदले जाएंगे। इस बार मंत्रिमंडल में दिल्ली देहात के चेहरे को भी शामिल किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार विधानसभा के पदों में से कुछ बदलाव हो सकता है। विश्वस्त सूत्रों का कहना है कि मंत्रियों के विभागों में बदलाव को लेकर पूरा मसौदा तैयार किया जा चुका है। सभी फैसले आम आदमी पार्टी के संयोजक व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सहमति से लिए गए हैं। केजरीवाल 2 मंत्रियों के एक साल के कामकाज से संतुष्ट नहीं हैं और उन्हें भविष्य में भी सुधार होता नहीं दिख रहा है।

तीन मंत्रियों के बदले जायेंगे विभाग
इन दोनों मंत्रियों को हटाने का निर्णय लिया जा चुका है। इनमें से एक मंत्री अपने फैसले को लेकर कुछ दिन पहले विवादों में रह चुके हैं जबकि दूसरे मंत्री की रिपोर्ट कार्ड से मुख्यमंत्री संतुष्ट नहीं हैं। ऐसे में दिल्ली सरकार के मंत्रिमंडल में 2 नए चेहरों का शामिल होना तय है। इस बार युवाओं को तरजीह दी जाएगी। इसमें से एक नाम बाहरी दिल्ली क्षेत्र से चुन लिया गया है और इस पर पार्टी में आम सहमति बन चुकी है। सरकार ने भी माना है कि मंत्रिमंडल में दिल्ली देहात की कमी खल रही है। मुख्यमंत्री से दिल्ली देहात के कई प्रतिनिधिमंडल मिलकर यह मांग भी कर चुके हैं। बताया जा रहा है कि 3 प्रमुख मंत्री गोपाल राय व सत्येन्द्र जैन और कपिल मिश्रा के विभाग में बदलाव किया जा रहा है। यह फेरबदल बजट सत्र के तुरन्त बाद होने की संभावना है।


कुछ विधायकों के बारे में आ रही शिकायतें

सूत्रों के अनुसार केजरीवाल लगातार अपने मंत्रिमंडल के बारे में इनपुट ले रहे हैं। इनमें से कुछ के खिलाफ संतोषजनक रिपोर्ट नहीं मिल रही है। कुछ विधायकों के बारे में शिकायतें आ रही हैं कि वे अपने विधानसभा क्षेत्रों पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। लोगों की समस्याएं भी सुनने के लिए उनके पास समय नहीं है। यहां तक कि एक विधायक ने अपने विधानसभा क्षेत्र में ऐसा कार्यालय तक नहीं बनाया जहां लोग अपनी समस्याएं बता सकें। इन शिकायतों के कारण केजरीवाल काफी नाराज हैं।
Special News Coverage
Next Story
Share it