Home > Archived > भोजशाला विवादः तनाव बरकरार, पूजा समिति ने बाहर शुरू किया हवन

भोजशाला विवादः तनाव बरकरार, पूजा समिति ने बाहर शुरू किया हवन

 Special News Coverage |  12 Feb 2016 6:37 AM GMT

download


धार

वसंत पंचमी के मौके पर मध्य प्रदेश के धार में पूजा और नमाज को लेकर तनाव बरकरार है। भोजशाला में पूरे दिन अखंड पूजा पर अड़े हिंदू संगठन और पूजा समिति ने भोजशाला के बाहर हवन करना शुरू कर दिया है। जबकि शहर काजी ने प्रशासन से मुस्लिम समुदाय की सुरक्षित नमाज की मांग की है।

भोजशाला में अलग से पूजा करने की इजाजत नहीं मिलने से नाराज पूजा समिति के लोगों ने बाहर हवन करना शुरू किया। दोपहर बाद वहां पर नमाज भी होनी है। किसी तरह की अनहोनी से बचने के लिए 10 हजार सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है।




एएसआई के आदेश के मुताबिक हिंदुओं को भोजशाला दिन में 12 से साढ़े तीन बजे तक खाली करनी पड़ेगी. जबकि शहर काजी ने सरकार पर उनके समुदाय से बात नहीं करने का आरोप लगाया है। प्रशासन ने धार को छावनी में तब्दील कर दिया है और ड्रोन कैमरों से पूरे इलाके पर नजर रखी जा रही है।

पुलिस अधिकारियों ने किया रिहर्सल
इन सब के बीच किसी भी परिस्थि‍ति से निपटने के लिए धार की भोजशाला में गुरुवार को पुलिस के अधिकारीयों ने रिहर्सल की। शहर के चप्पे-चप्पे पर पुलिस के जवान तैनात कर दिए गए हैं। हालांकि, भोज उत्सव समिति ने सरकार को दो टूक शब्दों में चेतावनी दी थी कि वो तो पूरे दिन अखंड पूजा करेंगे। समति के महामंत्री हेमंत दोराया ने कहा कि यदि सरकार नमाज करवाएगी तो कोई भी हिंदू अंदर प्रवेश नहीं करेगा।





धार में दो समुदायों के बीच बढ़ा विवाद
वसंत पंचमी के मौके पर मध्य प्रदेश के धार में पूजा और नमाज को लेकर तनाव बरकरार है। भोजशाला में पूरे दिन अखंड पूजा पर अड़े हिंदू संगठन और पूजा समिति ने भोजशाला के बाहर हवन करना शुरू कर दिया है। जबकि शहर काजी ने प्रशासन से मुस्लिम समुदाय की सुरक्षित नमाज की मांग की है।

भोजशाला में अलग से पूजा करने की इजाजत नहीं मिलने से नाराज पूजा समिति के लोगों ने बाहर हवन करना शुरू किया। दोपहर बाद वहां पर नमाज भी होनी है। किसी तरह की अनहोनी से बचने के लिए 10 हजार सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया गया है।


एएसआई ने दिया है भोजशाला खाली करने का आदेश
एएसआई के आदेश के मुताबिक हिंदुओं को भोजशाला दिन में 12 से साढ़े तीन बजे तक खाली करनी पड़ेगी. जबकि शहर काजी ने सरकार पर उनके समुदाय से बात नहीं करने का आरोप लगाया है। प्रशासन ने धार को छावनी में तब्दील कर दिया है और ड्रोन कैमरों से पूरे इलाके पर नजर रखी जा रही है।

पुलिस अधिकारियों ने किया रिहर्सल
इन सब के बीच किसी भी परिस्थि‍ति से निपटने के लिए धार की भोजशाला में गुरुवार को पुलिस के अधिकारीयों ने रिहर्सल की। शहर के चप्पे-चप्पे पर पुलिस के जवान तैनात कर दिए गए हैं। हालांकि, भोज उत्सव समिति ने सरकार को दो टूक शब्दों में चेतावनी दी थी कि वो तो पूरे दिन अखंड पूजा करेंगे। समति के महामंत्री हेमंत दोराया ने कहा कि यदि सरकार नमाज करवाएगी तो कोई भी हिंदू अंदर प्रवेश नहीं करेगा।



उधर, पुलिस धार में हर आने-जाने वाले पर कड़ी नजर रख रही है। आईजी दिलीप आर्य ने बताया कि नमाज और पूजा के आयोजन के लिए 10000 से ज्यादा पुलिस बल तैनात किए गए हैं। भोजशाला के आसपास 150 मेटल डिटेक्टर लगाए गए हैं और कैमरे से नजर रखी जा रही है।

'भोजशाला न तो मंदिर है न ही वहां कोई मूर्ति'

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्वि‍जय सिंह ने कहा कि भोजशाला में जहां वर्षों से नामज पढ़ी जाती है, वहां न तो कोई मंदिर है और न ही कोई मूर्ति। फिर वीएचपी और दूसरे हिंदू संगठन वहां किस आधार पर पूजा की बात कर रहे हैं।



Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top