Top
Begin typing your search...

JNU ने उमर खालिद को एक सेमेस्टर के लिए किया निष्कासित, कन्हैया पर 10 हजार का जुर्माना

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
जेएनयू


नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में कथित तौर पर देश विरोधी नारे लगाने के मामले में आरोपी स्टूडेंट उमर खालिद को एक सेमेस्टर के लिए निष्कासित कर दिया गया है। जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है।

इसके अलावा मुजीब गट्टू को 2 सेमेस्टर के लिए निष्कासित किया गया है। अनिर्बान भट्टाचार्य को 15 जुलाई तक के लिए निष्कासित किया गया है। साथ ही अनिर्बान को पांच साल तक जेएनयू से किसी भी तरह का कोई कोर्स करने से भी रोक दिया गया है।

पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष आशुतोष कुमार पर 20 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है। उन्हें एक साल के लिए हॉस्टल से निष्कासित कर दिया गया है। सौरव शर्मा पर 10 हजार रुपये का जुर्माना लगाया गया है।

जेएनयू की जांच कमिटी ने कन्हैया को 9 फरवरी को हुए कथित विवादित कार्यक्रम में अनुशासनात्मक मानदंडों को तोड़ने का दोषी पाया है। यूनिवर्सिटी में 9 फरवरी को आतंकी अफजल गुरु और मकबूल बट्ट के लिए कार्यक्रम आयोजित किया गया था।

इस कार्यक्रम में कथित तौर पर देशविरोधी नारे लगाए गए थे। इन नारों का विडियो भी सामने आया। हालांकि विडियो के साथ छेड़छाड़ होने के भी आरोप लगे थे। इस मामले में जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार, उमर खालिद समेत अन्य छात्रों को गिरफ्तार भी किया गया था।

फिलहाल ये सभी छात्र छह महीने की जमानत पर बाहर हैं। इन छात्रों पर राजद्रोह का केस चल रहा है। इस मामले की जांच के लिए बनी जेएनयू की आंतरिक समिति ने 21 छात्रों को दोषी पाया था।
Special News Coverage
Next Story
Share it