Top
Home > Archived > मोदी सरकार ने की राष्ट्रपति शासन की सिफारिश, कांग्रेस बोली कोर्ट जायेंगे

मोदी सरकार ने की राष्ट्रपति शासन की सिफारिश, कांग्रेस बोली कोर्ट जायेंगे

 Special News Coverage |  24 Jan 2016 12:52 PM GMT

modi cabinet
नई दिल्ली
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने राजनीतिक उथल पुथल के दौर से गुजर रहे अरुणाचल प्रदेश में रविवार को राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश की।


आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में रविवार सुबह कैबिनेट की बैठक हुई जिसमें अरुणाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश की गई।



कांग्रेस इस सिफारिश को अदालत में चुनौती देगी
कांग्रेस प्रवक्‍ता कपिल सिब्‍बल ने कहा कि अरूणाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने की केंद्रीय मंत्रिमंडल की सिफारिश को यदि राष्ट्रपति से मंजूरी मिल जाती है तो कांग्रेस इस सिफारिश को अदालत में चुनौती देगी। इस राज्य में पिछले साल 16 दिसंबर को राजनीतिक संकट शुरू हो गया था, जब कांग्रेस के 21 बागी विधायकों ने भाजपा के 11 सदस्यों और दो निर्दलीय विधायकों के साथ मिलकर एक अस्थाई स्थान पर आयोजित सत्र में विधानसभा अध्यक्ष नबाम रेबिया पर ‘महाभियोग’ चलाया।




कदम को ‘अवैध और असंवैधानिक’दिया करार
विधानसभा अध्यक्ष ने इस कदम को ‘अवैध और असंवैधानिक’ बताया था। कांग्रेसी मुख्यमंत्री नबाम तुकी के खिलाफ जाते हुए पार्टी के बागी 21 विधायकों ने भाजपा और निर्दलीय विधायकों की मदद से एक सामुदायिक केंद्र में सत्र आयोजित किया। इनमें 14 सदस्य वे भी थे जिन्हें एक दिन पहले ही अयोग्य करार दिया गया था। राज्य विधानसभा परिसर को स्थानीय प्रशासन द्वारा ‘सील’ किये जाने के बाद इन सदस्यों ने सामुदायिक केंद्र में उपाध्यक्ष टी नोरबू थांगडोक की अध्यक्षता में तत्काल एक सत्र बुलाकर रेबिया पर महाभियोग चलाया।



हालांकि, अरुणाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री और सरकार के मंत्रियों समेत 60 सदस्यीय विधानसभा में 27 विधायकों ने सदन की कार्यवाही का बहिष्कार किया था। मुख्यमंत्री ने बाद में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अनुरोध किया था कि राज्यपाल ज्योति प्रसाद राजखोवा द्वारा लोकतांत्रिक तरीके से निर्वाचित सरकार की अनेदखी करते हुए और लोकतंत्र की ‘अभूतपूर्व तरीके से हत्या’ की स्थिति में वे संविधान के संरक्षण के लिए हस्तक्षेप करें।

Tags:    
Next Story
Share it