Top
Home > Archived > मायावती को चुनाव में दलित याद आता है - रामविलास पासवान

मायावती को चुनाव में दलित याद आता है - रामविलास पासवान

 Special News Coverage |  28 Jan 2016 4:20 AM GMT

ramvilas paswan
इलाहाबाद (अरविंद मौर्य): इलाहाबाद लोकसभा क्षेत्र की जमीनी हकीकत का निरीक्षण करने आये केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान का भाजपा व लोजपा के कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया। मायावती को चुनाव में दलित याद आता है।

अपने संबोधन मे रामविलास पासवान ने बसपा प्रमुख मायावती पर सीधा हमला बोलते हुए कहां कि मायावती ने दलितों का बाँट कर सत्ता प्राप्त करने की राजनीति की हैं। वे दलित रहनुमा बनकर दलितों का शोषण कर रही हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि वे अपने को केवल चुनाव के समय दलित मानती हैं। अब उत्तर प्रदेश मे चुनाव होने वाले हैं। वे अब दलित कार्ड खेलना चाहती हैं। लेकिन जनता अब उनको पहचान चुकी हैं। उनकी चिकनी चुपडी बातों मे नहीं आएगी।


केंद्रीय मंत्री ने यह बातें कोरांव तहसील के परमसुख आदिवासी इंटर कॉलेज धौखर में आयोजित अनुसूचित जाति सम्मेलन में कहीं। उन्होंने क्षेत्र के पिछड़ेपन के लिए राज्य सरकार को भी जिम्मेदार ठहराया। कहा कि केंद्र की जनहितकारी योजनाएं ढंग से लागू नहीं की जा रही हैं। उन्होंने मुलायम सिंह पर पिछडो को बरगलाने का आरोप लगाता हुए कहां कि ये परिवार व जातिवाद को बढावा देने का आरोप लगाया ।

इस दौरान लोगों ने उन्हें अनेक मांगों का एक ज्ञापन सौंपा, साथ ही कोल जाति को अनुसूचित जनजाति का दर्जा दिलाने की कार्यवाही केंद्र में अटके होने की जानकारी दी। इस पर पासवान ने वादा किया कि वे इसके लिए केंद्र में संबंधित मंत्रालय और अधिकारियों से पैरवी करेंगे। इससे पहले इलाहाबाद सांसद श्यामाचरण गुप्त के आदर्श ग्राम बैदवार कलां में भी लोगों को संबोधित किया। इस दौरान सांसद के अतिरिक्त, जिलाध्यक्ष रामरक्षा द्विवेदी, सुबोध सिंह, दिवाकर सिंह सहित बड़ी संख्या में भाजपा और लोजपा नेता भी मौजूद थे।

Tags:    
Next Story
Share it