Home > Archived > एक दिन पुरानी सरकारःमनपसंद विभाग न मिलने से नाराज सज्जाद लोन ने दिया इस्तीफा

एक दिन पुरानी सरकारःमनपसंद विभाग न मिलने से नाराज सज्जाद लोन ने दिया इस्तीफा

 Special News Coverage |  6 April 2016 6:32 AM GMT


CfLScXJVIAEEDVk
श्रीनगर
जम्मू-कश्मीर में दो दिन पहले पीपुल्स डेमोक्रैटिक पार्टी (पीडीपी) और भारतीय जनता के गठबंधन में बनी सरकार के एक मंत्री ने इस्तीफा दे दिया। पीपुल्स कांफ्रेंस के चेयरमैन सज्जाद गनी लोन ने महबूबा मंत्रिमंडल में मिले अपने विभाग से अंसुतष्ट हो कर ये इस्तीफा दिया है। उन्होंने आज ही अपना इस्तीफा भाजपा नेतृत्व को भेजा, ताकि उसे मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती को भेजा जा सके।

भाजपा कोटे से मंत्री हैं सज्जाद
पीडीपी-भाजपा नेतृत्व की जम्मू-कश्मीर सरकार में सज्जाद गनी लोन को भाजपा कोटे से मंत्री बनाया गया था। उन्हें मंत्रिमंडल में समाज कल्याण विभाग का कार्यभार दिया गया था। सज्जाद से जुड़े करीबी सूत्रों ने कहा कि सज्जाद साहिब उन्हें दिए गए विभाग से संतुष्ट नहीं हैं। उन्हें उन लोगों को जवाब देना होगा, जिन्होंने उन पर भरोसा जताया है।


विभाग आवंटन के दिन लौट गए थे श्रीनगर
पीडीपी-भाजपा गठबंधन की सरकार बनने के बाद जब विभागों का बंटवारा किया गया तो इससे सज्जाद लोन नाराज हो गए और आवंटन से नाराज होकर श्रीनगर लौट आए। हैं।

मुफ्ती मोहम्मद सईद सरकार से भी थे नाराज
यह पहला मौका नहीं है जब सज्जाद गनी लोन ने राज्य मंत्रिमंडल में अपने विभाग को लेकर नाराजगी जताई हो। मार्च 2015 में जब मुफ्ती मुहम्मद सईद ने बतौर मुख्यमंत्री शपथ ली थी तो सज्जाद को भाजपा के कोटे से मंत्री बनाया गया। उन्हें पशुपालन विभाग मिला। वह इससे नाराज थे और उन्होंने कथित तौर पर भाजपा से नाता तोड़ने और विस सदस्यता से त्यागपत्र का भी मन बना लिया था। वह कई दिनों तक अपने मंत्रालय में भी नहीं गए।


ऊर्जा या स्वास्थ्य मंत्रालय चाहते थे सज्जाद
भाजपा नेतृत्व ने बाद में उन्हें किसी महत्वपूर्ण विभाग की जिम्मेदारी सौंपे जाने का वादा कर मना लिया था, लेकिन यह वादा कभी पूरा नहीं हुआ। सज्जाद के करीबियों की मानें तो इस बार महबूबा मंत्रिमंडल में उन्हें ऊर्जा या स्वास्थ्य मंत्रालय दिये जाने की पूरी उम्मीद थी। इसके बारे में कथित तौर पर भाजपा नेतृत्व ने उन्हें यकिन भी दिलाया था, लेकिन शपथ ग्रहण के बाद जब विभागों का आवंटन हुआ तो उन्हें कम महत्वपूर्ण कहे जाने वाले समाज कल्याण विभाग का जिम्मा मिला। इससे उनका गुुस्सा फुट पड़ा और वे श्रीनगर लौट आए।


'मान जाएंगे लोन'
इस संदर्भ में भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि सज्जाद अपने विभाग को लेकर नाराज हैं। लेकिन आलाकमान इस मामले को हल करने का प्रयास कर रही है। जल्द ही उन्हें मना लिया जाएगा।


कौन हैं सज्जाद गनी लोन
अलगाववादी से मुख्यधारा के नेता बने सज्जाद वरिष्ठ अलगाववादी नेता अब्दुल गनी लोन के बेटे हैं। अब्दुल गनी लोन की 2002 में आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी। सज्जाद पीपुल्स कांन्फ्रेंस (पीसी) के अध्यक्ष हैं। उन्होंने 2014 में कुपवाड़ा जिले के हंदवाड़ा निर्वाचन क्षेत्र से चुनाव लड़ा था और जीत हासिल की थी। चुनाव के बाद उन्होंने भाजपा को समर्थन देने की घोषणा की थी

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it
Top