Top
Begin typing your search...

प्रदर्शन करते निर्भया की मां को पुलिस ने हिरासत में लिया, केजरीवाल ने जताई हैरानी

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
Nirbhaya parents detained


नई दिल्ली : दोषी नाबालिग की रिहाई का विरोध कर रही निर्भया की मां को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। निर्भया की मां आशा देवी सुधार गृह के सामने विरोध प्रदर्शन कर रही थीं तभी उनको हिरासत में लिया गया। दिल्ली हाई कोर्ट ने नाबालिग रेपिस्ट की रिहाई पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था।




20 दिसंबर को नाबालिग दोषी की रिहाई होनी है। निर्भया के माता-पिता ने इस फैसले पर विरोध जताया था। आशा देवी ने कहा कि मेरी बेटी के साथ न्याय नहीं हुआ। इससे पहले सुब्रमण्यन स्वामी ने हाई कोर्ट ने दोषी नाबालिग की रिहाई रोकने के लिए याचिका डाली थी। लेकिन कोर्ट ने कहा कि कानूनों की वजह से रिहाई पर रोक नहीं लगाई जा सकती।

वहीं, निर्भया की मां को पुलिस हिरासत में लिए जाने से केजरीवाल ने ट्वीट कर हैरानी जताई है।







इस बीच खबर ये भी आ रही है कि नाबालिग दोषी को रिमांड होम से हटाकर किसी अज्ञात जगह पर ले जाया गया है। सूत्रों का कहना है कि सुरक्षा कारणों की वजह से ऐसा किया गया है।

आईबी की रिपोर्ट को आधार बनाकर भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने एक अर्जी कोर्ट में लगाई थी। इसमें दोषी की रिहाई पर रोक लगाने की मांग की गई थी। शुक्रवार को दिल्ली हाईकोर्ट ने दोषी की रिहाई पर रोक लगाने से इनकार किया।

चीफ जस्टिस जी. रोहिणी और जस्टिस राजीव सहाय एंडलॉ की बेंच ने कहा दोषी की तीन साल की सजा 20 दिसंबर को पूरी हो रही है। इसलिए उसकी रिहाई नहीं रोकी जा सकती। जुवेनाइल जस्टिस एक्ट 2007 के नियमों के तहत इस दोषी को सजा पूरी करने के बाद करेक्शन होम में नहीं रखा जा सकता। हम जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड के फैसले में दखल नहीं देना चाहते। जुवेनाइल जस्टिस के बारे में सोच-विचार की जरूरत है। केंद्र इस बारे में जवाब दाखिल करे।

कोर्ट के फैसले के बाद निर्भया की मां ने कहा वो फैसले से संतुष्ट नहीं हैं और उनका संघर्ष काम नहीं आया। उन्होंने कहा, ”आश्वासन मिला था कि इंसाफ मिलेगा, वो नहीं मिला। निर्भया की मां ने कहा, ‘हमारे लाख प्रयास के बावजूद इतने बड़े अपराधी को कोर्ट ने छोड़ दिया। हमें आश्वासन मिला था कि हमें इंसाफ मिलेगा, लेकिन वह इंसाफ हमें नहीं मिला। आखिर एक मुजरिम छूट गया है।’
Special News Coverage
Next Story
Share it