Top
Begin typing your search...

मोहम्मद तंज़िल अहमद की मौत के बाद ख़ामोशी क्यों? अफ़ज़ल और न ही याक़ूब थे

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
danish khan
नई दिल्ली

उत्तर प्रदेश के बिजनौर में घटित हुयी NIA अधिकारी हत्या को लेकर आज दानिश खान सोशल एक्टिविस्ट ने केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार दोनों के ख़ामोशी अख्तियार कर लेने से संयुक्त राष्ट्र संघ महासचिव वान की मून को पत्र लिखा है। पत्र में उनोहने अधिकारी के मर्डर के खुलाशे की जल्दी से जल्दी करने की मांग की है।

सेवा में
माननीय वान की मून महासचिव संयुक्त राष्ट्र संघ न्यूयार्क अमेरिका

विषय : भारत के एक जाबाज़ बहादुर देशभक्त अधिकारी डीएसपी मोहम्मद तंज़िल अहमद की निर्मम हत्या की संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा जाँच किये जाने के सन्दर्भ में प्रथान पत्र

माननीय भारत के उत्तर प्रदेश राज्य के जिला बिजनोर में रात में NIA के अधिकारी तंजील अहमद की 24 गोली मारकर हत्या कर दी गयी। जिस पर सभी राजनीतिक पार्टियाँ अथवा प्रदेश व भारत सरकार ने अपने अधिकारी की मृत्यु पर ख़ामोशी इख्तयार कर ली है।

घटना पर उचित कार्यवाही न करने को लेकर और प्रदेश व भारत सरकार की अपने अधिकारी की मृत्यु पर ख़ामोशी इख्तयार करने से अधिकारी के परिजन दहशत में है। अधिकारी की पत्नी की हालत बेहद नाजुक है।


क्योंकि मोहम्मद तंज़िल अहमद न तो अफ़ज़ल थे और न ही याक़ूब। कोई कॉम्युनिस्ट ब्रिगेड मातम नहीं मनाएगी। इस साहसी अधिकारी के बारे में थोड़ी सी जानकारी लीजिए आपको समझ आ जाएगा की आतंकियों ने 24 गोली मारकर क्यों हत्या की।

1- इंडियन मुजाहिद्दीन के चीफ यासिन भटकल की गिरफ्तारी में थी मुख्य भूमिका।
2- पश्चिमी यूपी में इंडियन मुजाहिद्दीन के स्लीपर सेल की कमर तोड़ दी थी।
3- पश्चिमी उत्तर प्रदेश में इस्लामिक स्टेट के स्लीपर सेल का भंडाफोड़ किया था।
4- 'स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट ऑफ़ इंडिया' (SIMI) के स्लीपर सेल की कमर तोड़ दी थी।
5- BSF के तेज तर्रार अधिकारी थे तंज़िल अहमद इसी वज़ह से प्रतिनियुक्ति (Deputation) पर NIA में हुए थे शामिल।
6- पठानकोट हमले की जांच के लिए आई पाकिस्तानी SIT को तर्कों से पाकिस्तान की संलिप्तता स्वीकार करने पर बाध्य किया था।

अब ये हमारा कर्तव्य है की इस देशभक्त की बहादुरी को संयुक्त राष्ट्र संघ तक पहुचाएं अन्यथा अफ़ज़ल प्रेमी मीडिया, सेकुलर नेता और लोग इनकी बहादुरी को इतिहास में दफ़न कर देंगे।

अतः माननीय से अनुरोध हे की भारत के ऐसे जांबाज़ अधिकारी की जाँच कर इसमें शामिल सभी आरोपियों को बेनक़ाब करे ताकि भारत में इसमें कोई कोई दूसरी घटना न घट सके ।

05/04/2016


भवदीय

दानिश खान सोशल एक्टिविस्ट
निवासी मॉडल कालोनी शान मैरिज नादर बाग़ रामपुर उत्तर प्रदेश (भारत )

मोबाइल न0 9458044777
Special News Coverage
Next Story
Share it