Top
Begin typing your search...

कई साल से खराब रेलवे क्रोसिंग का 'प्रभु' ने किया तीन दिन में निदान

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
Suresh Prabhu
फर्रुखाबाद: देश के रेल मंत्री सुरेश प्रभु लोगों के लिए वाकई 'प्रभु' साबित हो रहे हैं। ट्रेन में तो कई लोगों को सुरेश प्रभु को ट्वीट पर मदद मिली है अब ट्रेन के बाहर भी इसका व्यापक असर हो रहा है। फर्रुखाबाद में कई बरस से खराब रेलवे क्रासिंग प्रभु को एक ट्वीट से तीन दिन में दुरुस्त हो गई।

आमजन की समस्याओं के प्रति लापरवाही के साथ उपेक्षा का रवैया अख्तियार करने वाला भारतीय रेल विभाग अब लोगों की कठिनाइयों के प्रति संवेदनशील बनने की राह पर चल पड़ा है। जयनरायन वर्मा रोड निवासी विशाल अग्रवाल ने रेलमंत्री सुरेश प्रभु को ट्वीट कर जिला जेल चौराहे की खस्ताहाल रेलवे क्रासिंग की जानकारी दी। तो तीन दिन में क्रासिंग की मरम्मत हो गई। यातायात सुगम होने से लोगों ने राहत की सांस ली।

कानपुर-कासगंज रेल मार्ग पर फतेहगढ़ जिला जेल चौराहे की रेलवे क्रासिंग पर दोनों ओर गहरे गड्ढे थे। पटरियों के बीच में भी गड्ढे होने से कई बार वाहन फंस जाते थे। पैदल चलने वाले व साइकिल यात्रियों को भी परेशानी उठानी पड़ती। विशाल अग्रवाल ने 16 दिसंबर को इस क्रासिंग की खराब हालत व लोगों की कठिनाइयों के संबंध में रेलमंत्री को ट्वीट कर शिकायत की। रेलमंत्री ने उसी दिन रेल मंत्रलय के अधिकारियों को इस संबंध में त्वरित कार्रवाई के निर्देश दिये।

पूर्वोत्तर रेलवे के महाप्रबंधक से डीआरएम इज्जत नगर को क्रासिंग ठीक कराने को कहा गया। ट्वीट के तीसरे दिन रेलवे क्रासिंग की मरम्मत हो गई। जीएम एनई रेलवे गोरखपुर ने विशाल अग्रवाल को ट्वीट कर समस्या उठाने के लिए धन्यवाद दिया। सोशल साइट्स के उपयोग से काफी समय से चली आ रही रेलवे क्रासिंग की बदहाली का निदान हुआ और लोगों को राहत मिली। स्थानीय रेल अधिकारी लोगों की परेशानियों के प्रति आंखें मूंदे रहते हैं। विशाल अग्रवाल ने बताया कि सोशल साइट्स के रचनात्मक कार्यों से हम जन समस्याएं दूर करवा सकते हैं। इस मिसाल से केंद्र व राज्य के अन्य सरकारी विभागों को भी सीख लेनी चाहिए। इससे जनता की मुसीबतें समय रहते दूर हो सकें।
Special News Coverage
Next Story
Share it