Top
Begin typing your search...

JNU : उमर खालिद के पिता बोले- मुसलमान होने के कारण बेटे को बनाया जा रहा है निशाना

  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
मुसलमान होने के कारण बेटे को बनाया जा रहा है निशाना


नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में देशद्रोही नारे लगाने के मामले में आरोपी के तौर पर सामने आ रहे उमर खालिद के पिता अपने बेटे उमर के समर्थन में सामने आए हैं। उमर खालिद के पिता सैय्यद कासिम इलियास ने अपने बेटे को लेकर कहा है कि उनके बेटे को मुसलमान होने के कारण टारगेट किया जा रहा है। उन्होंने इस मामले में होने वाले मीडिया ट्रायल पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि इस मामले में मीडिया उनके बेटे को आरोपी बना रहा है उसे आतंकी बताने तक के प्रयास हो रहे हैं।

खलीद के पीता ने कहा की इस मसले कम्युनलाइज किया जा रहा है। 10 आयोजकों में से उसका नाम 7वां था। लेकिन खालिद का नाम सबसे ज्यादा उछाला जा रहा है। लेकिन जांच में जो सामने आया की खालिद को आयोजन से पहले कश्मीर से 68 कॉल आया था। उमर खालिद ने तकरीबन 800 फोने किये थे। फिलहाल इस मामले पर अब जमकर राजनीति भी शुरू हो गई। लेकिन उमर खालिद के पीता ने अपने बेटे बचाव के लिए अब अपनी आवाज बुलंद कर दी है।

इलियास द्वारा आरोप लगाया गया कि उनके पुत्र और कन्हैया को अलग तरह से ट्रीट किया जा रहा है। उनके अनुसार सरकार फूट डालो और शासन करो की पाॅलिसी अपना रही है। उन्होंने मीडिया ट्रायल को लेकर कहा कि उसके खिलाफ मीडिया ट्रायल इसलिए चलाया जा रहा है क्योंकि पुलिस एक मुस्लिम चेहरा चाहती है। इससे उसका केस मजबूत हो जाएगा।

दिल्ली पुलिस उमर खालिद का कई दिनों से तलाश कर रही है और अभी भी फरार है। सूत्रों की माने तो उमर खालिद ने 3 से 9 फरवरी के बीच में तकरीबन 38 कॉल किया था। यह भी जानकरी अब सामने आ रही है की JNU आयोजित सारे कार्यक्रम का मास्टर माइंड उमर खालिद था। उमर खालिद पर देशद्रोह का मामला दर्ज है। खालिद की तलाश में दिल्ली पुलिस ने कई इलाकों पर छापेमारी भी की लेकिन अब तक खालीद पुलिस के चंगुल से दूर है।

हालांकि इलियास ने अपने बेटे के बेगुनाह होने की बात कही और अपने बेटे उमर से अपील की कि वह सामने आए और कानून का सामना करे। हालांकि अपने बेटे को बेगुनाह बताने वाले इलियास बैग स्वयं ही स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट आॅफ इंडिया से जुड़े रह चुके हैं। हालांकि उन्होंने कहा कि जब खालिद भी पैदा नहीं हुआ था तभी 1985 में मैंने सिमी छोड़ दिया था। उन्होंने उनके बैकग्राउंड के कारण बेटे को निशाना बनाने की बात कही।
Special News Coverage
Next Story
Share it