Top
Breaking News
Home > Archived > टीपू सुलतान का किला भेदना आसान नहीं है बीजेपी और बसपा के लिए

टीपू सुलतान का किला भेदना आसान नहीं है बीजेपी और बसपा के लिए

 Special News Coverage |  18 March 2016 3:16 AM GMT

CM Akhilesh

लखनऊ
समाजवादी सरकार ने अभी चार साल पूरे किया और एक चेनल का सर्वे आ गया है। मुख्यमंत्री बोले हमें सही समय पर जगा दिया है। एक साल जनता के बीच जाएंगे और वोट मांगेंगे। हो सकता है कि भ्रम फैलाने के लिए रिपोर्ट आई हो। समाजवादी दूसरे की बात मान लेते हैं। हम एलर्ट हो गए हैं।’

आगामी विधानसभा चुनाव के संबंध में एक टीवी चैनल का सर्वे आने के बाद मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार को एकलव्य स्पोर्ट्स स्टेडियम में ये बातें कहीं। वह क्रॉसबो के प्रमोशन के लिए पहुंचे थे। उनोहने कहा कि कार्यकर्ता को सरकार के द्वारा कराए जा रहे कामों को जनता के बीच बताने की आवश्यकता है। इन सर्वे से कुछ नहीं होता है जनता का जबाब ही सर्वोपरि है।


मुख्यमंत्री अखिलेश अगर आने वाली साल में अपराध को कंट्रोल कर लें और हमलावर विपक्ष को शांति से सुनते रहें तो क्या बीजेपी, क्या बसपा टीपू का किला भेद पाएंगे? एसा नाममुमकिन ही नहीं ना उम्मीद है। अपराध और बडबोले मंत्रियों पर लगाम लगाना अति आवश्यक कार्य है।

सर्वे रिपोर्ट में 2017 विधान सभा चुनाव में समाजवादी पार्टी को तीसरे स्थान पर दिखाया गया है। इस पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बसपा और भाजपा को चुनौती दी कि वह काम से तुलना कर लें। सड़क, बिजली से लेकर अन्य योजनाओं में समाजवादी पार्टी की सरकार ने जितना काम किया, उसका मुकाबले किसी ने काम नहीं किया।

स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

नवीनतम

Share it