Home > मोदी जी जब तस्लीमा नसरीन आपकी बहन बन सकती है तो रोहिंग्या मुसलमान भाई क्यों नहीं - औवेसी

मोदी जी जब तस्लीमा नसरीन आपकी बहन बन सकती है तो रोहिंग्या मुसलमान भाई क्यों नहीं - औवेसी

जबाब दो पीएम मोदी AIMIM President Asaduddin Owaisi speaks on Rohingya refugees in इंडिया

 शिव कुमार मिश्र |  2017-09-15 08:48:35.0  |  हैदराबाद

मोदी जी जब तस्लीमा नसरीन आपकी बहन बन सकती है तो रोहिंग्या मुसलमान भाई क्यों नहीं - औवेसी

रोहिंग्या मुसलमानों के मुद्दे पर एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने नरेन्द्र मोदी सरकार पर करारा हमला बोला है। ओवैसी ने इस मुद्दे पर सीधे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को निशाने पर लिया और कहा कि प्रधानमंत्री जी जब बांग्लादेश की लेखिका तस्लीमा नसरीन आपकी बहन हो सकती है तो म्यांमार के रिफ्यूजी मुसलमान आपके भाई क्यों नहीं हो सकते हैं। ओवैसी ने कहा कि जब भारत में तस्लीमा नसरीन रह सकती है तो रोहिंग्या मुसलमान क्यों नहीं रह सकते हैं। तस्लीम नसरीन 1994 से भारत में निर्वासित जीवन जी रही है।


शुक्रवार 15 सितंबर को एक सभा में ओवैसी ने कहा कि भारत में बांग्लादेश के चकमा निवासी, श्रींलका के तमिल रिफ्यूजी, और तिब्बत में चीन के सताये कई बौद्ध रिफ्यूजी रह रहे हैं तो रोहिंग्या मुसलमानों को भारत शरण क्यों नहीं दे सकता है। बता दें कि भारत सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा मानते हुए इन्हें वापस भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि वे गृह मंत्रालय 18 सितंबर को इस बावत सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर करेगी।


ओवैसी ने कहा कि भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में स्थायी सदस्यता चाहता है लेकिन क्या दुनिया की एक ताकत के रुप में भारत का यही रवैया रहेगा। ओवैसी ने कहा, 'भारत सुरक्षा परिषद का स्थायी सदस्य बनना चाहता है लेकिन क्या वहां एक सुपर पावर के रूप में भारत का यही रवैया रहेगा।' 'क्या केन्द्र उन मुसलमानों को वापस भेज सकता है, आप किस कानून के तहत ऐसा करेंगे, इन रोहिंग्या मुसलमानों के पास मानवाधिकार आयोग की इजाजत का पत्र भी है।' केन्द्र पर बरसते हुए ओवैसी ने कहा कि जो लोग अपना सब कुछ खो चुके हैं उन्हें वापस भेजना कैसी मानवता है।'

Tags:    
Share it
Top