Top
Home > तकनीकी > लोकसभा चुनाव 2019 से पहले Facebook ने कांग्रेस से जुड़े 687 पेजों और अकाउंट्स को हटाया

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले Facebook ने कांग्रेस से जुड़े 687 पेजों और अकाउंट्स को हटाया

फेसबुक ने साफ किया है कि इन पन्नों को उनमें प्रकाशित सामग्री की बजाय उनके बिहेवियर यानी अप्रमाणिक जानकारी के चलते हटाया गया है.

 Special Coverage News |  1 April 2019 12:12 PM GMT  |  दिल्ली

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले Facebook ने कांग्रेस से जुड़े 687 पेजों और अकाउंट्स को हटाया
x

नई दिल्ली : लोकसभा चुनाव 2019 से पहले फेसबुक ने कांग्रेस पार्टी से जुड़े 687 पेजों और अकाउंट्स को अपने प्लेटफॉर्म से हटा दिया है। सोमवार को सोशल मीडिया कंपनी ने कहा कि 'अप्रमाणिक व्यवहार' के चलते देश की मुख्य विपक्षी पार्टी से जुड़े इन पेजों को हटाया गया है। फेसबुक ने साफ किया है कि इन पन्नों को उनमें प्रकाशित सामग्री की बजाय उनके बिहेवियर यानी अप्रमाणिक जानकारी के चलते हटाया गया है। भारत में 11 अप्रैल से 19 मई तक 7 चरणों में लोकसभा चुनाव के लिए मतदान होना है। 23 मई को नतीजों का ऐलान होना है।

संभवत: पहली बार किसी सोशल मीडिया वेबसाइट ने इस तरह का कदम उठाया है कि किसी बड़ी राजनीतिक पार्टी से जुड़े पन्नों को हटा दिया गया हो।

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की खबर के मुताबिक फेसबुक ने कहा कि उसने अपनी तफ्तीश में पाया है कि लोगों ने फर्जी अकाउंट्स बनाए और अलग-अलग ग्रुप्स से जुड़कर कॉन्टेंट को फैलाया। लोगों के बीच संपर्क बढ़ाने का काम किया। फेसबुक ने कहा कि इन फेक पन्नों में स्थानीय खबरों के अलावा राजनीतिक प्रतिद्वंदी, जैसे बीजेपी और पीएम नरेंद्र मोदी, की आलोचना भी की जाती थी।

फेसबुक के सायबर सिक्योरिटी पॉलिसी के नाथनेल ग्लेचियर ने कहा, 'लोगों ने अपनी पहचान को छिपाकर यह काम करने का प्रयास किया, लेकिन हमने अपनी जांच में पाया कि ऐसे पन्ने कांग्रेस की आईटी सेल के लोगों से जुड़े थे।' उन्होंने कहा कि इन अकाउंट्स को अप्रमाणिक व्यवहार के चलते हटाया जा रहा है।

दिग्गज सोशल मीडिया कंपनी ने पोस्ट के दो सैंपल भी शेयर किए हैं जिनमें पीएम मोदी द्वारा उठाए गए कदमों की आलोचना की गई थी और कांग्रेस व राहुल गांधी को समर्थन देने के लिए कहा गया था।

फेसबुक ने यह भी कहा कि उसने पाकिस्तानी सेना के जनसंपर्क विभाग (Inter-Service Public Relations) से जुड़े 103 पन्नों को भी हटाने का फैसला लिया है। इनका संचालन पाकिस्तान से ही होता था। इन गतिविधियों को संचालन करने वाले लोग मिलिट्री फैन पेज, कश्मीरी समुदाय पेजों का संचालन करने के लिए फर्चा अकाउंट्स बनाते थे।



Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it