Top
Home > तकनीकी > Tiktok Rating Down : जानिए कौन है यूट्यूब सेंसेशन कैरी मिनाती, जिसने टिक टॉक को तबाह कर दिया?

Tiktok Rating Down : जानिए कौन है यूट्यूब सेंसेशन कैरी मिनाती, जिसने टिक टॉक को तबाह कर दिया?

 Arun Mishra |  18 May 2020 3:22 PM GMT  |  दिल्ली

Tiktok Rating Down : जानिए कौन है यूट्यूब सेंसेशन कैरी मिनाती, जिसने टिक टॉक को तबाह कर दिया?
x

Tiktok Rating Down: यूट्यूब सेंसेशन बन चुके कैरी मिनाती वो शख्स है जिसने टिक टॉक को तबाह करके रख दिया है। यूट्यूब वर्सेज टिक टॉक वीडियो से लड़ाई की शुरुआत कैरी मिनाती ने 8 मई को की थी। जिसके बाद सात दिन के भीतर टिक-टॉक की रेटिंग 4.6 से घटकर 3.6 पर आ गई है। जबकि टिक टॉक लाइट की रेटिंग 4.9 से 2.9 पर आ गई है। सोशल मीडिया पर टिक टॉक यूजर, ऐप को डिलीट करने के वीडियो डाल रहे हैं। इसके अलावा टिक टॉक की रेटिंग को भी बदल रहे हैं। ऐसे में आइये जानते हैं आखिर यूट्यूब सेंशन कैरीमिनाती आखिर कौन हैं।

यूट्यूब के लिए 17 साल में छोड़ दी पढ़ाई

कैरीमिनाती के नाम से फेमस हो चुके अजय नागर फरीदाबाद का रहने वाले हैं। 1999 में जन्मे अजय नागर ने यूट्यूब की खातिर 17 साल की उम्र में पढ़ाई छोड़ दी थी। जानकारी के मुताबिक अजय नागर ने 2009 में यूट्यूब पर वीडियो अपलोड करना शुरू कर दिया था। उस वक्त सनी देओल की मिमक्री के वीडियो अपलोड करते थे। इसके अलावा गेम से जुड़ी ट्रिक बताने वाले वीडियो डालते थे। इस समय भी वीडियो गेम से जुड़ा कैरीइज लाइव चैनल भी चलाते हैं जिसपर पांच मिलियन सब्सक्राइबर हैं।

कैरीमिनाती को तीन बार में मिली सफलता

यूट्यूब पर कैरीमिनाती उर्फ अजय नागर एक बार में सेंसेशन नहीं बने हैं। तीन बार कैरीमिनाती ने चैनल बदला है। 2010 में चैनल बनाने के बाद 2014 में दूसरा चैनल बनाया। उस वक्त एडिक्टेड ए1 नाम रखा। लेकिन 2015 में कैरीदेओल नाम से नया चैनल बनाया। इसके बाद 2017 में चैनल का नाम बदलकर कैरीमिनाती किया। जिससे उन्हें बड़ी सफलता मिली है। जानकारी के मुताबिक कैरीदेओल चैनल बनाने के बाद उसपर सनी देओल की मिमक्री के वीडियो अपलोड करते थे। लेकिन लोगों की रोस्टिंग शुरू करते ही नाम बदल दिया। लोगों को कैरीमिनाती को बदला अंदाज नजर आया। इस समय कैरी मिनाती के के 17.5 मिलियन सब्सक्राइबर हैं। जबकि वीडियो डालने से पहले 10 मिलियन के करीब थे।

एल्विस यादव ने शुरू की थी लड़ाई

यूट्यूब वर्सेज टिक टॉक की लड़ाई एल्विस यादव ने शुरू की थी। एल्विस यादव ने रोस्टिंग टिक टॉकर्स नाम से वीडियो डाला। 18 अप्रैल को डाले गए वीडियो में टिक टॉकर्स का मजाक उड़ाया था। लेकिन असल लड़ाई टिक टॉकर आमिर सिद्धकी के वीडियो से हुई। आमिर सिद्धकी ने एल्विस यादव को जवाब देते हुए यूट्यूबर्स का जमकर मजाक उड़ाया। इसके बाद कैरी मिनाती ने 11 मिनट के वीडियो में आमिर सिद्धकी की धज्जियां उड़ाकर रख दीं। वीडियो की लोकप्रियता का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि 8 मई को डाले गए वीडियो पर 15 मई तक 77 मिलियन व्यूज आ चुके थे। इसके अलावा 10 मिलियन से अधिक लोगों ने उसे लाइक किया। लेकिन उस वीडियो की बार-बार रिपोर्ट कर यूट्यूब से हटवा दिया।

फिर टिक टॉक के खिलाफ शुरू हुई लड़ाई

कैरी मिनाती के वीडियो को यूट्यूब से डिलीट किए जाने के बाद टिक टॉक के खिलाफ असली लड़ाई शुरू हुई। सोशल मीडिया पर यूजर्स ने टिक टॉक को डिलीट करने के वीडियो डालने शुरू कर दिए। इसके अलावा ट्विटर पर #BanTikTokInInida ट्रेंड कर लग गया। लेकिन हिंदुस्तानी भाऊ विकास पाठक ने 1.5 मिलियन फॉलोअर्स वाले टिक टॉक अकाउंट को डिलीट कर दिया। इसके अलावा इससे जुड़ा वीडियो भी यूट्यूब पर अपलोड कर दिया। इसके बाद कैरी मिनाती के समर्थन में #Justiceforcarryminati ट्रेंड करने लग गया और समर्थन में लोगों की बाढ़ सी आ गई।



भारत में टिक टॉक यूजर्स ने ऐप को अन-इंस्टॉल करना शुरू कर दिया। इसके अलावा रेटिंग को घटा दिया। जिसके कारण कभी टिक टॉक की रेटिंग 17 मई को 4.6 से घटकर 3.6 पर आ गई।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Arun Mishra

Arun Mishra

Arun Mishra


Next Story
Share it