Top
Begin typing your search...

महाराष्ट्र पंचायत चुनाव परिणाम: शिवसेना गठबंधन ने किया भाजपा का सफाया

शिवसेना गठबंधन को 7436 सीटें जीतकर भारतीय जनता पार्टी को कुल 2632 सीटों पर समेट दिया जबकि कांग्रेस, एनसीपी और बीजेपी की सीटों में बहुत ज्यादा अंतर नहीं है.

महाराष्ट्र पंचायत चुनाव परिणाम: शिवसेना गठबंधन ने किया भाजपा का सफाया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

महाराष्ट्र में हुए ग्राम पंचायत चुनाव के नतीजे अब लगभग साफ हो गए हैं. नतीजों में सत्ताधारी पार्टी शिवसेना सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है, जबकि भारतीय जनता पार्टी दूसरे नंबर पर रही है. मंगलवार सुबह तक सामने आए नतीजों में शिवसेना को कुल 3113 सीटों पर जीत मिली है. वहीं शिवसेना गठबंधन को 7436 सीटें जीतकर भारतीय जनता पार्टी को कुल 2632 सीटों पर समेट दिया जबकि कांग्रेस, एनसीपी और बीजेपी की सीटों में बहुत ज्यादा अंतर नहीं है.

मंगलवार सुबह तक के नतीजे...

• शिवसेना- 3113

• बीजेपी- 2632

• एनसीपी- 2400

• कांग्रेस- 1823

• मनसे- 36

• निर्दलीय- 2344

गौरतलब है कि उद्धव ठाकरे की अगुवाई में चल रही महा विकास अघाड़ी के गठबंधन सरकार के सामने ये पहली बड़ी राजनीतिक चुनौती थी. जिसमें अगर कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना को मिलाकर नतीजों को देखें तो करीब सात हजार सीटों पर जीत हासिल की जा चुकी है. हालांकि, भाजपा का दावा है कि उनके समर्थित कई निर्दलीयों को भी बड़ी जीत मिली है.

आपको बता दें कि महाराष्ट्र में 34 जिलों में 12,711 ग्राम पंचायतों में शुक्रवार को हुए चुनाव 79 फीसदी मतदान हुआ था. राज्य की ग्राम पंचायतों में 31 मार्च 2020 को चुनाव होने वाले थे, लेकिन कोरोना की वजह से 17 मार्च 2020 को चुनाव कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया. इसके बाद पंचायत चुनाव की घोषणा दिसंबर में गई थी.

पंचायत चुनाव के नतीजों को लेकर शिवसेना के मुखपत्र सामना में भी तंज कसा गया है. शिवसेना ने लिखा है कि भारतीय जनता पार्टी को अब समझना चाहिए कि राज्य में बीजेपी के साथी ईडी, सीबीआई और आईटी विभाग राजनीतिक जीत नहीं दिला सकते हैं.

शिवसेना ने लिखा कि बीजेपी की ओर से लगातार महा विकास अघाड़ी सरकार को बदनाम करने की कोशिश की गई, लेकिन जनता ने एक बार फिर वोट के जरिए अपना रुख साफ कर दिया है.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it