Top
Begin typing your search...

तो क्या बीजेपी ने चुनाव जीतने के लिए पुलवामा में 40 जवानों के बहाया खून!

तो क्या बीजेपी ने चुनाव जीतने के लिए पुलवामा में 40 जवानों के बहाया खून!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

शिवसेना ने सामना के माध्यम से इस प्रकरण को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा है. सामना में अर्णब गोस्वामी चैट लीक केस को लेकर शिवसेना ने बड़ा आरोप लगाते हुए लिखा है कि एक तो 'पुलवामा' में हमारे सैनिकों की हत्या, देश के अंदर रची गई राजनीतिक षड्यंत्र था. लोकसभा चुनाव जीतने के लिए 40 जवानों का खून बहाया गया. पहले भी ऐसे आरोप लगे थे. अब अर्णब गोस्वामी की जो व्हाट्सएप चैट बाहर आई है, वह उन आरोप को और पुख्ता करती है. ये सब देखकर स्वयं श्रीराम भी अपना माथा पीट रहे होंगे. लेकिन भारतीय जनता पार्टी ने इस पर 'तांडव' तो छोड़िए, भांगड़ा भी नहीं किया.

शिवसेना ने इस मुद्दे पर बीजेपी से सवाल करते हुए लिखा है कि राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित अनेक गोपनीय बातें गोस्वामी ने सार्वजनिक कर दीं, इस पर बीजेपी 'तांडव' क्यों नहीं करती? चीन ने लद्दाख में घुसकर हिंदुस्तानी जमीन पर कब्जा कर लिया. चीन पीछे हटने को तैयार नहीं, इस पर 'तांडव' क्यों नहीं होता? गोस्वामी को गोपनीय जानकारी देकर राष्ट्रीय सुरक्षा की धज्जियां उड़ानेवाले असल में कौन थे, लोगों को पता चलने दो. गोस्वामी द्वारा 40 जवानों की हत्या पर आनंद व्यक्त करना, यह देश, देव और धर्म का ही अपमान है.

उन्होंने आगे लिखा कि भारतीय जनता पार्टी अब हास्य-व्यंग्य का विषय बन गई है. रोज नए स्वांग-ढोंग रचकर जनता का मनोरंजन करने का प्रयोग वे करते ही रहते हैं, लेकिन उनके प्रपंची प्रयोग जनता को पसंद नहीं आते. 'तांडव' वेब सीरीज वर्तमान में प्रदर्शित हुई है. कहा जाता है कि यह सीरीज मौजूदा राजनीति की वास्तविकता पर आधारित है. दिल्ली की राजनीति, विश्वविद्यालयों में सियासी खींचतान, इस तरह के कुछ विषय इसमें दिखाए गए हैं.

हिंदुस्थानी सैनिकों का व उनकी शहादत का अपमान जितना गोस्वामी ने किया है, उतना अपमान पाकिस्तानियों ने भी नहीं किया होगा. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी समेत सुशीलकुमार शिंदे, सलमान खुर्शीद और गुलामनबी आजाद ने भी बुधवार को पत्रकार परिषद में इस पूरे मामले की जांच कराने व 'सरकारी गोपनीयता अधिनियम' के तहत कार्रवाई करने की मांग की है.

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it