Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > आगरा > यूपी : प्रेमी के कहने पर लड़कों को गैंगरेप केस में फंसाया, ऐसे पकड़ा गया लड़की का झूठ

यूपी : प्रेमी के कहने पर लड़कों को गैंगरेप केस में फंसाया, ऐसे पकड़ा गया लड़की का झूठ

छात्रा का प्रेमी खुद एक हिस्ट्रीशीटर है. उसी के कहने पर छात्रा ने चारों युवकों को फंसाने की साजिश रची थी.

 Special Coverage News |  6 Dec 2019 8:18 AM GMT  |  दिल्ली

यूपी : प्रेमी के कहने पर लड़कों को गैंगरेप केस में फंसाया, ऐसे पकड़ा गया लड़की का झूठ

आगरा : देश में लगातार हो रहीं गैंगरेप की घटनाओं से आम जनता खासकर महिलाओं में रोष है. मगर दूसरी तरफ कई मामले ऐसे भी आते हैं जिसमें केवल बदला लेने के उद्देश्य से ही किसी को फंसाया जाता है.

ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के आगरा जिले से सामने आया है, जहां एक लड़की ने अपने प्रेमी के कहने पर उसके दुश्मनों पर किडनैप करने और गैंगरेप करने का आरोप लगाया था. मगर जब पुलिस को उसपर शक हुआ तो युवति ने खुद ही सब सच उगल दिया.

क्या था मामला?

दरअसल आगरा की रहने वाली बी.ए. की एक छात्रा ने एक राहगीर के मोबाइल से 112 नंबर पर पुलिस को सूचित किया कि उसके साथ गैंगरेप हुआ है. गैंगरेप की बात सुनकर पुलिस के हाथ-पांव फूल गए. सभी आलाअधिकारी लड़की की बताई गई जगह थाना पचोखरा क्षेत्र के जोरी गढ़ी के पास पहुंच गए. मामले की गंभीरता को देखते हुए आईजी आगरा ए. सतीश गणेश ने आगरा, फिरोजाबाद और हाथरास की पुलिस के साथ क्राइम ब्रांच की टीम को भी इस मामले की जांच में लगा दिया.

पुलिस के मुताबिक छात्रा ने पुलिस को बताया था कि वह बुधवार सुबह आगरा के खंदारी स्थित कोचिंग में पढ़ने जा रही थी. उसी समय आरोपी चारों युवक गाड़ी से आए और छात्रा से कहा कि उसके भाई के दोस्त हैं और उसके भाई का एक्सीडेंट हो गया है. वह उसी के पास जा रहे हैं. उन्होंने छात्रा को भी साथ चलने को कहा. छात्रा उनके साथ कार में बैठ गई. छात्रा ने अपनी शिकायत में बताया था कि आरोपी उसे लेकर एत्मादपुर इलाके के एक खेल में ले गए और उसके साथ गैंगरेप किया.

…और फिर शुरु हुई जांच

पुलिस अधिकारियों ने मामला दर्ज कर जांच शुरु कर दी. सभी पुलिस अधिकारी लगातार छात्रा से बात कर रहे थे. जैसे ही पुलिस ने छात्रा के बयान लेने शुरु किए, पुलिस को कुछ शक होने लगा. क्योंकि छात्रा पुलिस अधिकारियों के सामने बार-बार अपने बयान बदल रही थी.

जिनपर लगाया आरोप उन्हें ही नहीं पहचान पाई छात्रा

पुलिस ने जांच को थोड़ा आगे बढ़ाते हुए पीड़िता की शिकायत पर चार आरोपियों को हिरासत में लिए और थाने ले आई. अब उनकी पहचान करने के लिए छात्रा को बुलाया गया. जैसे ही पुलिस ने चारों आरोपियों को पीड़िता के सामने खड़ा किया और पहचानने को कहा, पीड़िता उन्हें पहचान ही नहीं पाई. इतना ही नहीं पुलिस को तीनों आरोपियों के मोबाइल की लोकेशन भी घटना के दौरान उनके घर के पास की ही मिली. जिससे पुलिस का शक और पुख्ता हो गया.

पुलिस के सामने गुनाह कबूला

जब पुलिस का शक बढ़ा, तो पुलिस ने छात्रा से सख्ती से पूछताछ की, और बस फिर क्या था. 9 घंटें में केस खुल गया. छात्रा ने एक बार में ही अपना गुनाह कबूलना शुरु कर दिया. छात्रा ने बताया की उसने यह सब अपने प्रेमी के कहने पर किया. उस डर था कि अगर उसने प्रेमी की बात नहीं मानी, तो वह गुस्सा हो जाएगा.

प्रेमी ही निकला हिस्ट्रीशीटर

छात्रा ने जब कहानी सुनानी शुरु की तो पुलिस भी सकते में आ गई. दरअसल, उस छात्रा का प्रेमी अनिल खुद एक हिस्ट्रीशीटर है. खुद उस पर कई मुकदमें भी दर्ज हैं. अनिल का आरोपी युवकों के साथ विवाद चल रहा था. उसी के कहने पर छात्रा ने चारों युवकों को फंसाने की साजिश रची थी. और अनिल ही उस छात्रा को घटनास्थल तक छोड़कर गया था. घटना के बाद से अनिल फरार है. पुलिस उसकी तलाश कर रही है.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it
Top