Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > अलीगढ़ > गांधी के अनुयायी चौधरी चरण सिंह वास्तव में किसानों के मसीहा और गरीबों-वंचितों के ताड़नहार थे - डा.रक्षपालसिंह चौहान

गांधी के अनुयायी चौधरी चरण सिंह वास्तव में किसानों के मसीहा और गरीबों-वंचितों के ताड़नहार थे - डा.रक्षपालसिंह चौहान

इसके अलावा श्री ज्ञानेन्द्र रावत ने चौधरी चरण सिंह जी की शिष्टाचार, स्वास्थ्य, भाषा, कृषि, किसान, बेरोजगारी, श्रम, उद्योग, जाति-प्रथा आदि विषयों से सम्बन्धित सूक्तियों को,उनके विचारों को " चौधरी चरण सिंह : सूक्ति और विचार" नामक पुस्तक में संकलित करने का काम किया है।

 Shiv Kumar Mishra |  6 Oct 2020 3:50 AM GMT  |  दिल्ली

गांधी के अनुयायी चौधरी चरण सिंह वास्तव में किसानों के मसीहा और गरीबों-वंचितों के ताड़नहार थे - डा.रक्षपालसिंह चौहान
x

अलीगढ़। चौधरी चरण सिंह के बारे में बहुत कुछ लिखा गया है, अखबारों में और पत्रिकाओं में भी। आज वह हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनके बारे में जनता में आज भी एक अच्छे प्रशासक,एक ईमानदार राष्ट्रीय राजनेता की छवि बनी हुई है। इस बारे में मैंने अनेकों कहानियों भी सुनी हैं। बीते दिनों उनके विषय में लिखी मुझे दो किताबें पढ़ने को मिली। एक "चौधरी चरण सिंह : स्मृति और मूल्यांकन " और दूसरी " चौधरी चरण सिंह : सूक्ति और विचार "। उसके बाद चौधरी साहब और पुस्तकों के बारे में लिखे बिना रहा नहीं गया। जबकि इनके बारे में कई बार पर्यावरणविद भाई श्री सुबोध नंदन शर्मा जी ने भी जिक्र किया था और चौधरी साहब के बारे में लिखी इन पुस्तकों की चर्चा भी की थी। पढ़ने के बाद उन पुस्तकों के बारे में जन-मानस को बताना मैं आवश्यक समझता हूँ कि आखिर चौधरी साहब क्यों और राजनीतिक नेताओं से अलग और विशिष्ट थे।

रहबरे आजम चौधरी छोटूराम के बाद देश में चौधरी चरण सिंह एकमात्र ऐसे नेता थे जिन्हें देश का किसान अपना मसीहा और गरीब - वंचित तबका अपना ताड़नहार मानता था। उनमें वह अपने हमदर्द की छवि देखता था। यही कारण था कि उनके 77 वें जन्म दिवस, 23 दिसम्बर 1978 को नयी दिल्ली स्थित वोट क्लब पर हुयी किसान रैली में देश के उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पश्चिम से लेकर पूरब तक के राज्यों के लाखों किसान, मजदूर और वंचित तबकों के लोगों ने भाग लेकर यह साबित कर दिया था कि यदि देश में किसान-मजदूर और गरीबों का कोई मसीहा है, तो वह है चौधरी चरण सिंह। देश ही नहीं, विदेशी अखबारों तक ने इस रैली को ऐतिहासिक करार देते हुए देश के इतिहास की सबसे बड़ी रैली की संज्ञा दी थी।

देश के ऐसे राजनीतिज्ञ जिनके बारे में बड़े-बड़े ख्यातनामा राजनीतिक नेताओं तक ने उन्हें गांधी का सच्चा अनुयायी माना, उनके जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में वरिष्ठ पत्रकार ज्ञानेन्द्र रावत ने करीब ढाई दशक पूर्व लिखी अपनी पुस्तक " चौधरी चरण सिंह : स्मृति और मूल्यांकन" में सिलसिलेवार खुलासा किया है।


उल्लेखनीय है कि इस पुस्तक में श्री ज्ञानेन्द्र रावत ने वह चाहे देश के राष्ट्रपति रहे ज्ञानी जैल सिंह हों, डा. शंकर दयाल शर्मा हों, प्रधानमन्त्री श्री विश्व नाथ प्रताप सिंह हों, श्री चंद्र शेखर हों, श्री पी. वी. नरसिम्हाराव हों, श्री इन्द्र कुमार गुजराल हों, उप प्रधानमंत्री रहे चौधरी देवीलाल हों या श्री लालकृष्ण आडवाणी हों, समाजवादी नेता श्री राजनारायण हों, श्री मधु लिमये या मधु दंडवते हों, या फिर श्री सुरेन्द्र मोहन या श्री मधुकर दिघे रहे हों, श्री रघुबर दयाल वर्मा हों या कम्युनिस्ट नेता श्री हरिकिशन सिंह सुरजीत हों, सी. राजेश्वर रा़व या एम. फारूखी हों, या श्री प्रताप कुमार टंडन हों, जनसंघ के नेता श्री बलराज मधोक हों, प्रख्यात लेखक श्री भगवती चरण वर्मा हों या श्री जैनेन्द्र कुमार हों या श्री परिमल दास हों, या वरिष्ठ पत्रकार श्री कुलदीप नायर हों, श्री उदयन शर्मा हों, श्री रमेश वर्मा हों, अर्थशास्त्री प्रो. जे. डी. सेठी हों, लोकसभाध्यक्ष डा. शिवराज पाटिल हों या राज्यसभा की उपसभापति रहीं डा. नज्मा हेपतुल्ला रही हों, जस्टिस हंसराज खन्ना रहे हों, आर्यसमाजी नेता देवीदास आर्य हों या श्री रामाकृष्ण हेगड़े हों या डा. सुब्रहमण्यम स्वामी रहे हों या शिक्षाविद डा. स्वरूप सिंह हों, उनके धुर विरोधी रहे रामचंद्र विकल रहे हों या उनके सहयोगी चौधरी कुंभाराम आर्य हों, श्री वीरेन्द्र वर्मा हों, श्री नाथूराम मिर्धा हों, डा. वी. सत्यनारायण रेड्डी हों, श्री हेमवती नंदन बहुगुणा हों, श्री धनिक लाल मंडल हों या सरदार बलवंत सिंह रामूवालिया या श्री हरिसिंह नलवा हों या श्री चंद्र जीत यादव हों या कुंवर नटवर सिंह हों या फिर उनके सेनानी रहे श्री मुलायम सिंह यादव हों, श्री रामनरेश यादव हों, श्री शरद यादव हों, श्री रामविलास पासवान हों, श्री अजय सिंह हों या ए. नील रोहितदास नाडार आदि के साक्षात्कार व चौधरी चरण सिंह जी के व्यक्तित्व एवं कृतित्व पर लिखे लेखों को संकलित - संपादित किया है। इसके अलावा श्री ज्ञानेन्द्र रावत ने चौधरी चरण सिंह जी की शिष्टाचार, स्वास्थ्य, भाषा, कृषि, किसान, बेरोजगारी, श्रम, उद्योग, जाति-प्रथा आदि विषयों से सम्बन्धित सूक्तियों को,उनके विचारों को " चौधरी चरण सिंह : सूक्ति और विचार" नामक पुस्तक में संकलित करने का काम किया है।

इन दोनों पुस्तकों को किसान ट्रस्ट ने ढाई दशक पूर्व प्रकाशित किया है। असलियत में यह दोनों पुस्तकें पठनीय तो हैं हीं, अनुपम और संग्रहणीय हैं । इसके लिए श्री ज्ञानेन्द्र रावत बधाई के पात्र हैं, साधुवाद के पात्र हैं। इसलिए भी कि उन्होंने इसके माध्यम से चौधरी साहब के जीवन की विशिष्टताओं और व्यक्तित्व के विभिन्न पहलुओं को जनमानस के सामने लाने का पुनीत कार्य किया है।

(लेखक प्रख्यात शिक्षाविद व अलीगढ़ स्थित धर्म समाज कालेज के पूर्व विभागाध्यक्ष और डा. बी. आर. अम्बेडकर विश्व विद्यालय, आगरा शिक्षक संघ के पूर्व अध्यक्ष हैं।)

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it