Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > अलीगढ़ > अलीगढ़ CAA हिंसा में घायल तारिक की मौत

अलीगढ़ CAA हिंसा में घायल तारिक की मौत

मृतक तारिक के पिता ने शहरवासियों से शांति बनाए रखने की अपील के साथ जिला प्रशासन से आरोपियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

 Shiv Kumar Mishra |  14 March 2020 3:41 AM GMT  |  अलीगढ़

अलीगढ़ CAA हिंसा में घायल तारिक की मौत
x

अलीगढ़. उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में प्रदर्शन के दौरान हुए बवाल में तारिक को गोली लग गई थी. उसे जेएन मेडिकल कॉलेज में दाखिल करया गया था. तारिक की शुक्रवार की रात हॉस्पिटल में मौत हो गई. घटना की सूचना मिलने के बाद मेडिकल कॉलेज में जिले के पुलिस प्रशासन समेत तमाम लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई. मृतक तारिक के पिता ने शहरवासियों से शांति बनाए रखने की अपील के साथ जिला प्रशासन से आरोपियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग की है.

दरअसल नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में ऊपरकोट कोतवाली पर महिलाओं का प्रदर्शन चल रहा था. इसी दौरान प्रदर्शनकारी महिलाओं ने पुलिस पर पथराव कर दिया था. इसके बाद पुलिस और इलाके के तमाम लोग आमने-सामने आ गए. पुलिस पर पथराव किए गए और वहां आगजनी की घटना को भी अंजाम दिया गया था. इस दौरान पुलिस ने भी बल प्रयोग कर सभी को खदेड़ दिया. बवाल धीरे-धीरे अन्य इलाकों में फैलते फैलते बाबरी मंडी तक पहुंच गया और वहां पर दो समुदाय के बीच पथराव और फायरिंग शुरू हो गई.

23 फरवरी से ही तारिक हॉस्पिटल में दाखिल था

बाबरी मंडी में दोनों ही पक्ष के कई लोग पथराव व गोली लगने से घायल हो गए थे. इनमें तारिक नाम का युवक भी शामिल था. तारिक का उपचार 23 फरवरी से ही जेएन मेडिकल कॉलेज में चल रहा था. गौरतलब है कि युवक के लिए जिला प्रशासन द्वारा आर्थिक मदद भी दी गई. इसी दौरान देर रात तक बवाल में आरोपी बनाए गए विनय वार्ष्णेय को पुलिस प्रशासन ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. वहीं पांच अन्य युवक भी गिरफ्तार कर अगले दिन जेल भेजे गए थे.

तारिक की मौत की सूचना मिलने के बाद मौके पर जिला प्रशासनिक पुलिस अधिकारियों समेत परिजन और तमाम राजनेता व समर्थकों का जमावड़ा शुरू हो गया. वहीं मृतक तारिक के पिता ने आरोपियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की मांग करते हुए शहरवासियों से शांति की अपील की है. इस मामले में एसपी सिटी अभिषेक कुमार का कहना है कि तारिक़ के गोली लगने की घटना को लेकर परिवार द्वारा तीन लोगों के विरुद्ध नामज़द मुकदमा दर्ज कराया गया था. इनमें से विनय वार्ष्णेय को गिरफ्तार कर जेल भेजा जा चुका है. अन्य के विरुद्ध भी साक्ष्यों के आधार पर कार्रवाई की जाएगी.

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it