Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > अयोध्या राम जन्मभूमि केस में 18वें दिन की सुनवाई शुरू,मुस्लिम पक्ष के वकिल राजीव धवन रख रहे है दलीले रथ यात्रा को लेकर कही ये बाते

अयोध्या राम जन्मभूमि केस में 18वें दिन की सुनवाई शुरू,मुस्लिम पक्ष के वकिल राजीव धवन रख रहे है दलीले रथ यात्रा को लेकर कही ये बाते

Advocates of the Muslim side, Rajiv Dhawan, Ram Mandir, Ayodhya, Babri Masjid, Supreme Court, offering namaz, disputed land,

 Sujeet Kumar Gupta |  3 Sep 2019 8:35 AM GMT  |  नई दिल्ली

अयोध्या राम जन्मभूमि केस में 18वें दिन की सुनवाई शुरू,मुस्लिम पक्ष के वकिल राजीव धवन   रख रहे है दलीले रथ यात्रा को लेकर कही ये बाते

अयोध्या राम जन्मभूमि बाबरी मस्जिद विवाद केस में सुप्रीम कोर्ट में 18वें दिन की सुनवाई शुरू हो चुकी है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता में संविधान पीठ इस मामले की सुनवाई कर रही है. आज मुस्लिम पक्ष की तरफ से वकील राजीव धवन दलीलें रख रहे हैं. राजीव धवन ने कोर्ट में कहा कि हिन्दू पक्ष की दलील है कि मुस्लिम पक्ष के पास विवादित जमीन के कब्ज़े के अधिकार नही है, न हो मुस्लिम पक्ष वहाँ नमाज अदा करते है. उसके पीछे वजह ये है कि 1934 में निर्मोही अखाड़ा ने गलत तरीके से अवैध कब्जा किया. हमें नमाज पढ़ने नही दिया गया. राजीव धवन ने कहा मस्जिद में मूर्ति का होना कोई चमत्कार नही बल्कि सोचा समझा हमला था।

सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष की तरफ से दलील दे रहे राजीव धवन ने कहा कि अब देश में अयोध्या विवाद पर विराम लगना चाहिए. अब कोई रथ यात्रा नहीं निकलनी चाहिए. उनका इशारा 1990 में लाल कृष्ण आडवाणी के नेतृत्व में निकली रथ यात्रा की तरफ था जिसके बाद बाबरी मस्जिद गिरा दी गई थी। इस दौरान मुस्लिम पक्ष की तरफ से वरिष्ठ वकील राजीव धवन ने कहा कि सिविल सूट में तथ्यों और साक्ष्यों पर स्वामित्व और अधिकार को साबित करने की आवश्यकता है. उन्होंने कहा कि विवादित संपत्ति पर हिंदुओं का विशेष स्वामित्व दिखाने के लिए एक भी सबूत नहीं है।

इसपर जस्टिस बोबडे ने पूछा कि आप किसकी पात्रता के बारे में बात कर रहे हैं. इसपर राजीव धवन ने कहा कि जमीन के हिस्से की पात्रता की बात कर रहे हैं. यदि अदालत देवता के स्वायंभु स्वरूप पर उनके तर्क को स्वीकार करती है, तो पूरी संपत्ति उनके पास जानी चाहिए. मुस्लिमों को कुछ नहीं मिलेगा. लेकिन वे इसपर अपना अधिकारी जता रहे हैं.

राजीव धवन ने कहा कि स्तंभों की उपस्थिति दर्शाई गई है, लेकिन स्तंभ किसी विशेष धर्म का संकेत नहीं देते हैं. राजीव धवन ने कहा कि हिंदुओ का दावा है कि बीच वाले गुम्बद के नीचे ही रामजी का जन्म हुआ था. मुस्लिम पक्ष का कहना है कि आप कैसे कह सकते हैं कि राम वहीं पैदा हुए थे. इतना बड़ा स्ट्रक्चर है आप का दावा ठोस तथ्यों पर आधारित नहीं है. अगर थोड़ी देर को मान भी लें कि जन्म वहां हुआ तो परिक्रमा के दावे करने का क्या मतलब है? 23 अगस्त 1989 को सुन्नी वक्फ बोर्ड इस मुकदमे में पार्टी बना. जन्मस्थान को रामजन्म भूमि कहते हुए हिंदुओ ने दावा किया कि वो हमेशा से उनके कब्जे में रहा. अब जन्मस्थान और जन्मभूमि के अर्थ में काफी अंतर और कन्फ्यूजन भी है.

राजीव धवन ने कहा कि हिंदू पक्ष की दलीलों में एक नई बात जोड़ी गई कि जिन लोगों ने 1992 में मस्जिद गिराई थी, वे शरारती तत्व थे और उनका हिंदुओं से कोई लेना-देना नहीं था. अगर वे हिंदू नहीं थे तो फिर वे कौन थे। इससे पहले राजीव धवन ने कहा कि बाबरी मस्जिद में भगवान रामलला की मूर्ति स्थापित करना छल से किया हुआ हमला है. राजीव धवन ने कहा कि हिन्दू महासभा ने कहा है कि वो इस मसले को लेकर सरकार के पास जाएगी.

धवन ने पुरानी तस्वीरें कोर्ट में पेश कर दावा किया कि विवादित इमारत में मध्य वाले मेहराब के ऊपर अरबी लिपि में बाबर और अल्लाह उत्कीर्ण था. इसके अलावा कलमा भी लिखा था. उत्तरी मेहराब में भी कैलीग्राफी यानी कलात्मक लिखाई में तीन बार अल्लाह लिखा था. पास में ही फिर राम राम भी लिख दिया गया.

उन्होंने कहा कि जगमोहन दास लाल साहू की खींची गई तस्वीरें हैं. कोई ये भी नहीं कह सकता कि मुस्लिम फोटोग्राफर ने ली है. दशकों तक वहां ताला पड़ा रहा. हर शुक्रवार को ताला खुलता रहा और हम नमाज़ पढ़ते रहे. फिर भी ये कह रहे हैं कि वो मस्जिद नहीं थी. जस्टिस भूषण और जस्टिस बोबडे ने पूछा कि क्या किसी खंभे की तस्वीर भी आप पेश करेंगे? धवन ने इस पर कोई साफ साफ जवाब नहीं दिया.

राजीन धवन ने कहा कि इसका सीधा मतलब तो यही है कि कोर्ट का ये अधिकार क्षेत्र नहीं है. इस तरह के शो पर रोक लगनी चाहिये 'और कोई रथयात्रा नहीं.'मुस्लिम पक्ष की तरफ से राजीव धवन ने कहा कि हिन्दू पक्ष की दलील है कि मुस्लिम पक्ष के पास विवादित जमीन के कब्जे के अधिकार नहीं है, न हो लेकिन मुस्लिम पक्ष वहां नमाज अदा करता रहा है. उसके पीछे वजह ये है कि 1934 में निर्मोही अखाड़ा ने गलत तरीके से अवैध कब्जा किया. इसके बाद हमें नमाज नहीं अदा करने दिया गया.

राजीव धवन ने कहा कि हम कह सकते हैं कि दोनों ही पक्ष वहां उपासना करते रहें, लेकिन ये कैसे कह सकते हैं कि वहां मस्जिद नहीं थी. धवन ने एक तस्वीरनुमा नक्शा दिखाकर कहा कि 1480 गज का भूरे रंग का हिस्सा देवता और निर्मोही अखाड़े को दिया है. 740 वर्गगज का हिस्सा मुस्लिम पक्षकारों को दिया गया. उन्होंने आगे कहा कि 1947 में दिल्ली में तोड़ी गई 30 मस्जिदों को तब के पीएम पंडित नेहरू ने फिर से बनाने का आदेश दिया था।


Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story

Similar Posts

Share it
Top