Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > बाराबंकी > बेटियो के प्रति निगेटिव सोच ने लील ली तीन जिंदगियां

बेटियो के प्रति निगेटिव "सोच" ने लील ली तीन जिंदगियां

फलफूल ररहा घर समसान में दबदील, मासूमो की चीख पुकार से दहल उठा हर कलेजा

 Special Coverage News |  26 May 2019 4:33 PM GMT  |  बाराबंकी

दिन रात बेटियो को लेकर ताने मारने वाला पिता अब सब कुछ लुटाने के बाद बदहवास है
x
दिन रात बेटियो को लेकर ताने मारने वाला पिता अब सब कुछ लुटाने के बाद बदहवास है

त्रिलोकपुर/ बाराबंकी

पिता से मिल रहे बेटे को प्यार, बेटियो को दुत्कार , के रवैय्ये से घर मे पति,पत्नी के बीच आये दिन झगड़ा मारपीट वजह बन गया था । हर कदम पर बेटियो को लेकर तानो से मां आजिज होकर अपनी ममता पर पत्थर रख कर खुद से पहले दोनों लड़कियों पर मिट्टी तेल डाल कर आग के हवाले कर दिया। जिससे एक के बाद एक तीनो जिंदगियां ईश्वर के पास चली गयी। इस घटना के बाद जो सवाल खड़ा हुआ है वह यह की एक बेटी कल्पना चावला घर आंगन से निकल कर चाँद जैसी ऊंचाई को हासिल कर लेती है तो दूसरी तरह एक "सोच" से मजबूर ममता अपने जिगर पर पत्थर रख कर खुद के साथ जिंदा जलाने जैसे कदम को उठा रही है।

थाना जहांगीराबाद इलाके की है घटना

रसूलपुर किदवाई गांव निवासी प्रदीप यादव 3 भाइयो में सबसे बड़ा है । गैसमजिक स्वभाव की वजह से तीनों भाइयों में हमेशा अनबन बनी रहती है। 15 साल पूर्व इसी थाने के चपरी गांव से शादी हुई उसके बाद दो बेटियां अंशिका 13 वंशिका उर्फ रिया 7 के बाद एक बेटा 5 साल जन्मा बताते है । दंपति के वैवाहिक जीवन मे जब से दो बेटियां आंगन में आई पति का मिजाज अपनी अपनी के लिए नफरत से हो गया । पति की वर्षो से प्रताण्डना झेल रही पत्नी की कोख से तीसरे बच्चे के रूप में बेटा केशव (5) हुआ । तो घर के हालात में माहौल खुशनुमा हुआ । लेकिन एक पिता की बेटियो के प्रति सोच से आये दिन विवाद मारपीट सगल बन गया । बेटियो की वजह से रोज मिल रहे तानो से टूट चुकी मां धीरे धीरे पत्थर बन नही गयी । बताते है एक दिन पूर्व पति ने अपनी पत्नी को इन्ही बातो को लेकर जमकर पीटा डाला । चूंकि पत्नी के न माता है न पिता न भाई दो अन्य बहने पति के दो भाइयों संघ इसी गांव में ब्याही है। वह अपना दर्द किसी से नही कह पाई रविवार की सुबह हुई तो पति ने बिना वजह फिर हमला बोल कर बुरी तरह घायल कर डाला और अपने बेटे के साथ पति प्रदीप घर से दूर अहाता में मवेशियों को चारा देने चला गया । इधर आक्रोश में डूबी मां ने बेटियो को आवाज देकर अपने पास बुलाया और दोनों पर पिपिया में रखा मिट्टी तेल उड़ेल कर माचिस से आग लगा कर अपने ऊपर भी तेल डाल कर आग लगा ली ।




चीख पुकार सुन कर दौड़े लोग

एक छोटे से घर मे तीन जिंदगियां जिंदा जल रही थी आग की लपटों के बीच से निकल रही बचाव बचाव की आवाज सुनकर दौड़े लोग नजारा देख दंग रह गए । ग्रामीणों की सारी कोसिस फेल हो गयी और पत्नी अंजू लता 35 मौके पर ही मौत की शिकार हो गयी आनन फानन में दोनों बच्चों को जिला अस्पताल पहुचाया गया यहां कुछ देर मौत से लड़ने के बाद वंशिका उर्फ रिया ने दुनिया छोड़ दी । तीसरी बेटी की हालत नाजुक देख डॉक्टरों ने लखनऊ सिविल अस्पताल रेफर किया लेकिन यहां से भी मौत की खबर आ गयी इस तरह दो मासूम बच्चों के साथ तीन मौतो ने पूरे इलाके को हिला दिया । इस बाबत जब बच्चो के पिता से पूछा गया कि आपके घर बेटियो को लेकर झगड़ा क्यों होता था तो बताया हमारे घर कभी कोई विवाद नही होता था । हम बेटियो को बहुत चाहते है। उधर गांव के लोग नाम न छापने की बात कहते हुए बताया कि पति पत्नी के बीच का असल विवाद बेटियो के प्रति निगेटिव सोच थी । गांव वालों ने बताया कि इनके रोज के झगड़ो में गांव का अन्य कोई यहां तक दोनों सगे भाई तक नही बोलते थे ।




तहरीर मिलने पर होगी कारवाही

घटना के बाबत प्रभारी निरीक्षक संतोष कुमार ने बताया कि बच्चों पर मां ने मिट्टी तेल उड़ेल कर आग लगाई है। माँ ने ऐसा क्यों किया इस सवाल का जवाब पुलिस देने से बच रही है। उसका कहना है कि दंपति के विवाद के बाद ऐसी घटना ही है । तहरीर मिलने पर कार्यवाही की जाएगी । लेकिन विवाहिता का न कोई भाई है न माता पिता बहने है भी तो पति के भाइयो के साथ ऐसी हालत में आत्म हत्या के लिए प्रेरित करने वाले गुनाहगार को सजा मिल पाएगी या नही ये सवाल लोगो की जुबान पर चर्चा में है।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it