Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > बाराबंकी > किसान की मौत में मुकदमा लिखने पर अड़ा परिवार, सियासत गरमाई

किसान की मौत में मुकदमा लिखने पर अड़ा परिवार, सियासत गरमाई

सपा के पूर्व सांसद रामसागर रावत जैदपुर विधायक गौरव रावत सुरेश यादव कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता तनुज पुनिया सांसद बेनी प्रसाद वर्मा के प्रतिनिधि मोहम्मद सबाह भी शनिवार को मर्च्युरी पहुंच गए।

 Shiv Kumar Mishra |  29 Feb 2020 3:50 PM GMT  |  बाराबंकी

किसान की मौत में मुकदमा लिखने पर अड़ा परिवार, सियासत गरमाई
x

बाराबंकी

लोन अदा न कर पाने पर आरसी जारी होने के बाद राजस्व टीम के साथ जा रहे किसान की जहर खाने से हुई मौत के मामले में सियासत गरमा गई है। सपा मुखिया अखिलेश यादव को पूरे प्रकरण से अवगत कराकर सपा के विधायक सुरेश यादव गौरव रावत पूर्व सांसद रामसागर कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता तनुज पुनिया परिजनों की मांग के समर्थन में खड़े हो गए हैं। परिजन इस पूरे मामले में दोषी जिम्मेदार लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग कर रहे हैं। किसान के गांव में पुलिस का पहरा है वहीं मुख्यालय पर शव परीक्षण गृह में परिजनों के साथ सियासी दल के लोग जमा हैं।

मामला सिद्धौर क्षेत्र के मवैया मजरे सादुल्लापुर का

यहां रहने वाले जगजीवन वर्मा (55) ने तीन बैंकों से करीब 40 लाख रुपये का कर्ज ले रखा था। कर्ज की अदायगी न होने पर केनरा बैंक जैदपुर, कार्पोरेशन बैंक बाराबंकी और इंडियन बैंक शाखा सतरही ने आरसी जारी कर दी थी। गुरुवार को नायब तहसीलदार हैदरगढ़ अभिषेक यादव के नेतृत्व में राजस्व टीम कर्ज वसूलने के लिए गांव पहुंची थी।

परिवारीजनों का आरोप है कि टीम ने पहले तो उनके साथ अभद्रता की फिर उन्हें गाड़ी में बिठाकर साथ लेकर चली गई। आरोप है कि इसी बीच किसान ने जहरीला पदार्थ खा लिया था। और हालत बिगड़ने पर टीम उसे सीएचसी ले गई थी।

किसान जगजीवन को गुरुवार को हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल में परिवारीजनों ने भर्ती कराया था जहां से ट्रॉमा के लिए रेफर कर दिया गया था। मृतक के पुत्र चंद्रेश ने बताया कि हालत गंभीर होने पर लोहिया ले गया था जहां से ट्रॉमा भेज दिया गया, ट्रॉमा में वेंटीलेटर न मिलने के कारण सफेदाबाद स्थित हिंद अस्पताल लाए जहां से भी रेफर कर दिया गया तो हम लोग शाम को चंदन अस्पताल भर्ती कराये और वहां से शुक्रवार को निकालकर जिला अस्पताल ले गए जहां 8.45 बजे मौत हो गई।

थानाध्यक्ष कोठी संतोष कुमार ने बताया कि जिस किसान की मौत हुई उसके पुत्र अर्जश कुमार ने गुरुवार को तहसील कर्मियों पर किसान को बोलेरो जीप से उठा ले जाने की तहरीर दी थी और कोई तहरीर नहीं मिली है। फिलहाल गांव में पुलिस तैनात है। शनिवार को पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेजा। परिजन जगजीवन की मौत से गुस्से में है वही गांव के प्रधान व आसपास गांव के लोग भी प्रशासनिक रवैये पर उंगली उठा रहे हैं। इनका सीधा आरोप है कि अभद्रता की हद पार कर दी गई। दोषी अधिकारियों व कर्मचारियों पर मुकदमा दर्ज हो। सपा के पूर्व सांसद रामसागर रावत जैदपुर विधायक गौरव रावत सुरेश यादव कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता तनुज पुनिया सांसद बेनी प्रसाद वर्मा के प्रतिनिधि मोहम्मद सबाह भी शनिवार को मर्च्युरी पहुंच गए। यहां एसडीएम सदर अभय पांडे से कई बार वार्ता हुई। परिजन मुकदमा दर्ज करने की मांग पर अड़े हैं।

डीएम बोले खुद खाया संदिग्ध पदार्थ, संतोषजनक है मृतक की आर्थिक हालत। इस पूरे प्रकरण में जिलाधिकारी डॉ आदर्श सिंह का कहना है कि किसान जगजीवन पर केसीसी लोन का 49 लाख 25 हजार 556 रुपये बकाया था। ये सभी कर्ज 2013 और 2014 में लिए गए। आर्थिक स्थिति संतोषजनक है। उसके पास 4 हेक्टेयर कृषि भूमि है। इसके अलावा ट्रैक्टर बाइक पक्का मकान भी है। 27 फरवरी को राजस्व टीम उसके घर गयी थी। जगजीवन और टीम के बीच बात चल ही रही थी कि उसने तम्बाकू की पुड़िया में रखा कोई संदिगध पदार्थ खा लिया। और किसी से फोन पर कहा कि मने जहर खा लिया ये सुनकर उसे सीएचसी ले जाया गया। यहां से अस्पताल लाया गया। इसके बाद परिजन उसे लखनऊ ले गए और कल रात फिर वापस जिला अस्पताल लाये जहां उसकी मौत हो गई।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it