Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > बाराबंकी > भीषण हादसे में दो लोगो की दर्दनाक मौत, दिल दहलाने वाली तस्वीरें

भीषण हादसे में दो लोगो की दर्दनाक मौत, दिल दहलाने वाली तस्वीरें

 Special Coverage News |  26 April 2019 1:08 PM GMT  |  बाराबंकी

भीषण हादसे में दो लोगो की दर्दनाक मौत, दिल दहलाने वाली तस्वीरें
x

बाराबंकी

बाराबंकी, बहराईच हॉइवे पर स्थित पिपरौली मोड़ पर डीसीएम, वैन की बीच सामने हुई भीषण टक्कर में दोनों वाहनों के चालको की मौत हो गयी और महिला सहित तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गये। जिनको जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

यह दर्दनाक हादसा शुक्रवार को थाना मसौली इलाके में करीब 11 बजे उस समय हुआ जब थाना व कस्बा मसौली निवासी 38 वर्षीय नसीब अली उर्फ़ नाती पुत्र मोसिम अली अपने 11 वर्षीय पुत्र शहनवाज के साथ मारुति वैन कार नम्बर यूपी 32 डी जेड 7742 से स्टोल (गमछा ) लेकर कस्बा शहाबपुर जा रहा था। नेवला चौराहे थोड़ा आगे बढ़ने पर पिपरौली मोड़ के निकट वैन पहुँची ही थी कि सफेदाबाद से आटा मैदा लेकर मसौली जा रही डीसीएम नम्बर यूपी 32 जे एन 1233 ने जोरदार टक्कर मार दी। जिससे वैन के जहाँ परखच्चे उड़ गये वही डीसीएम चालक भी असुन्तलित सड़क के नीचे खाई में लगे पेड़ से जा टकरा गयीं।

दुर्घटना में वैन चालक नसीब अली पुत्र मोसिम अली व उसके पुत्र शहनवाज को आनन फानन में जिला अस्पताल पहुँचाया गया जिसमें नसीब की मौत हो गयी वही डीसीएम की स्टेरिंग में फंसे 30 वर्षीय डीसीएम चालक प्रदीप कुमार चौहान निवासी सफेदाबाद को कड़ी मशक्कत के बाद निकाल कर गम्भीर हालात में जिला अस्पताल पहुँचाया गया जिसकी जिला अस्पताल पहुँचते ही मौत हो गयी। डीसीएम में सवार मृतक की 25 वर्षीय पत्नी राजकुमारी व 6 वर्षीय मामा का लड़का कृष्णना घायल हो गये जिन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।




घटना से सहम गये राहगीर

डीसीएम एव मारुति वैन कार की इतनी जबरदस्त टक्कर थी कि हाईवे से गुजर रहे लोग सहम गये। स्टोल ले जा रहे नसीब अली की वैन का आगे का पूरा हिस्सा ध्वस्त हो गया। वही डीसीएम चालक प्रदीप चौहान भी दुर्घटना के बाद असुन्तलित होकर सड़क की खाईं में लगे पेड़ से टकरा गया । जिससे डीसीएम चालक प्रदीप स्टेरिंग में बुरी तरह फंस गया। डीसीएम की स्टेरिंग में तड़प रहे प्रदीप को बचाने के लिए पुलिस भरसक प्रयास करने के बाद भी कामयाबी न मिलने पर जिला मुख्यालय से बुलायी क्रेन से डीसीएम को खाई से निकाल कर चालक को जिला अस्पताल पहुँचाया गया जिसकी मृत्यु हो गयी।




काश मसौली जाने की जिद न करते

डीसीएम चालक मृतक प्रदीप की पत्नी राजकुमारी का रो रो कर बुरा हाल था। बार बार यही कहती की काश हमारा कहा मैं लेते और मसौली घूमने न आते। राजकुमारी रोते हुए कह रही थी की शादी के 4 साल हो गये कभी भी कही नही ले गये आज जिद करके मसौली लेकर आये थे।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर, Telegram पर फॉलो करे...
Next Story
Share it