Top
Begin typing your search...

बच्चे नही हुए तो पत्नी का करा दिया गैंगरेप, पानी के बदले पिलाई पेशाब

तांत्रिक इमाम की बहू से हुई घटना से है भारी आक्रोश

बच्चे नही हुए तो पत्नी का करा दिया गैंगरेप, पानी के बदले पिलाई पेशाब
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

15 दिन बंधक रही पीड़िता को भीड़ ने छुड़ाया

तांत्रिक इमाम की बहू से हुई घटना से है भारी आक्रोश

नही दर्ज हुआ मुकदमा, दर दर भटक रही पीड़िता

बाराबंकी: मसौली थाना इलाके में गैंगरेप की एक सनसनीखेज वारदात सामने आई है। विवाहिता ने तहरीर देकर बताया कि पति को गैर लड़की के साथ अश्लील फोटो में देखकर विरोध किया तो उसे तलाक देकर तन के कपड़े फाड़ कर 15 दिनों तक घर के एक कमरे में बंधक बनाकर अमानवीय जुल्म ढाने की इंतिहा पार कर दी। तंत्र मंत्र करने वाले स्वसुर हाजी महबूब अली की सह पर पति मो. ताजिर ने कई लोगो से गैंगरेप करवा दिया। इस दौरान जब पीड़िता रहम की भीख मांगती तो बेरहम पति उससे कहता कि ऐसा सबक दो की पीढियां याद रखे। बाकी थाना हम संभाल लेंगे। पीड़िता को प्यास लगने पर पेशाब भूख मिटाने को दो दिन का बासी भोजन दिया जाता। यँहा रिस्तो का 15 दिन तक मुंह काला किया गया। भीड़ ने विवाहिता को कैद से मुक्त कराया तो दहला देने वाली घटना का खुलासा हुआ।

पीड़िता को भीड़ ने मुक्त कराया:

बकौल पीड़ित परिवार 26 नवम्बर 020 को तंत्र मंत्र करने वाले एक मस्जिद के इमाम व हाजी के आलीशान घर को अचानक दर्जनों की भीड़ ने पुलिस को सूचना देकर घेर लिया। आक्रोश में डूबे विवाहिता के परिजनों ने घर मे जबरन घुस कर अपनी बेटी की दयनीय हालत और कमरे का नजारा देख दंग रह गए पीड़िता की माँ बेहोश हो गयी। दबंग ससुराल पक्ष से मामूली संघर्ष के बाद विवाहिता कैद होकर घर से बाहर आई तब तक पास के 1 गांव घटना स्थल वाले कस्बा से सैकड़ो की भीड़ उमड़ पड़ी । विस्फोटक हो चुके हालात को पुलिस ने समझदारी से संभाल लिए और पीड़िता के शरीर की चोटों का चिकित्सीय परीक्षण कराया।

पसीज गयी छोटी बहू:

पीड़िता के मुताबिक उसके साथ हो रही क्रूरता की जानकारी 1 देवरानी को हो गयी उसको ये सब बर्दास्त नही हुआ उसने 1 पखवारे के बाद मौका पाकर उसके मायके फोन करके बताया कि ससुराल में सब कुछ ठीक नही है। इसी सूचना से घर वाले ससुराल आकर उसको बंधक से आजाद करा लिया इससे हमारी जान बच पायी।

अश्लील फोटो से पनपा विवाद:

गैंगरेप पीड़िता ने अपने जुल्मों की दास्तान बांया करते हुए बताया कि करीब 22 दिन पूर्व देर रात पति के मोबाइल में 1 लड़की के साथ दोनों के अश्लील फोटो देखकर वह विचलित हो गयी। और सो चुके पति को जगाकर फोटो दिखाया और पूछा कि ये सब क्या है? बस यही से उसकी जिंदगी में तूफान आ गया । उसी वक्त उसे तलाक दे दिया और कहा अब इस घर में तुम नही ये रहेगी। रात भर जुल्म ढाया और पति ने स्वसुर के साथ प्लान बनाकर देवरो समेत कई लोगो से रेप करवाकर पीड़िता को तबाह कर दिया ।

पानी के बदले मिली पेशाब:

पीड़िता ने पुलिस को तहरीर देकर बताया कि उसे 1 कमरे में कैद करके लात घूंसों से बेतहासा पीटा गया। प्यास लगने पर उसे जबरन पेशाब पिलाया गया । भूख मिटाने के लिए कई दिन बाद खराब बासी भोजन दिया जाता । बकौल पीड़िता क्रूर पति के पैर पकड़ कर फुट फुट कर रेप न करवाने की भीख मांगती रही लेकिन अवैध संबंध में अँधा हो चुका पति हर बार यही कहता कि तेरे मायके वालो को जो संदेश दूंगा वह इतिहास बनेगा।

बच्चे न होने का दोष पत्नी पर मढ़ा:

विवाहिता ने बताया कि शादी के 14 साल होने के बाद कोई औलाद नसीब नही हुई । इसका सारा दोष पीड़िता पर डाल कर वर्षो से सास स्वसुर पति सबके सब ताने मार रहे है। पीड़िता ने कई बार कहा कि जांच करवा इलाज करवा लिया जाए उसे मुजरिम न बनाया जाए लेकिन तांत्रिक ससुर ने हमेशा पति के साथ मिलकर गंदा प्लान ही तैयार। बताया कि दौलतमंद होने की वजह से कानपुर से काफी मंहगे कई अवैध असलहे खरीद कर घर मे लाये है। विवाहिता के मुताबिक पति का अवैध कारोबार में लिप्त है जिसकी जानकारी मसौली पुलिस को इस घटना से पूर्व में है।

टूट गयी पवित्र रिस्तो की डोर:

कहते है भाभी मां समान होती है लेकिन यहां इमाम और हाजी का रुतबा रखने वाले कि चौखट पर किसी की बेटी के साथ जो हुआ उसको सुनकर रिश्ते का भी सर शर्म से झुक गया। पीड़िता के मुताबिक पति और ससुर ने देवरो को रेप करने के लिए उकसाया जब कि वह ऐसा नही करना चाहते थे। बताया कि 15 दिनों के बंधक के बाद उसने जीने की उम्मीद छोड़ दी थी। ससुराल वाले हत्या के बाद लाश गायब करने का प्लान बना चुके थे। अच्छा हुआ कि देवरानी का एहसान है कि बचा लिया।

इस लिए गांव में है भारी आक्रोश :

ग्रामीणों के मुताबिक दो साल पूर्व मोहर्रम और दशहरा के जुलूस आमने सामने आ गए इस हालत में आरोपी पति मो. ताजिर ने अपने कई साथियों के साथ उत्तेजना पैदा करने वाले धार्मिक नारेबाजी करने लगा ऐसा होने पर दूसरी तरफ से भी जयकारो की गूंज उठी। हालात को तत्कालीन दरोगा अश्वनी और दोनों सम्प्रदाय के जिम्मेदार राजू मिश्रा अनवर अंसारी आदि ने संभाल लिए उस वक्त पूरा कस्बा साम्प्रदायिक आग में झुलसने से बच गया था। उसी दौरान से दोनों तरफ के लोग इस परिवार से खुश नही है। इस घटना पर पूरा इलाका शख्त कार्यवाही चाहता है।

नही हुई कार्यवाही:

27 नवम्बर को पीड़िता ने पुलिस को तहरीर देकर कार्यवाही की फरियाद की, पुलिस सक्रिय हुई आरोपी पति स्वसुर हिरासत में लिए गए 3 दिन थाने में रोकने के बाद उन पर शांतिभंग की धारा लगा कर भेज दिया । इस बाबत थानाध्यक्ष विजेंदर शर्मा ने बताया कि गैंगरेप की बात कम समझ आ रही है। ये बड़ा मामला है अधिकारियों की जानकारी में है।

Shiv Kumar Mishra
Next Story
Share it