Top
Begin typing your search...

बदायूं में महिला से हैवानियत का मुख्य आरोपी महंत गिरफ्तार, ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस को सौंपा, पुलिस नहीं ढूंढ पाई

वह गांव से निकलने की तैयारी में लगा था। इसी दौरान ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस को सौंप दिया।

बदायूं में महिला से हैवानियत का मुख्य आरोपी महंत गिरफ्तार, ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस को सौंपा, पुलिस नहीं ढूंढ पाई
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बदायूं में मंदिर गई महिला से हैवानियत के बाद हत्या करने वाला महंत सतनारायण गुरुवार की रात गिरफ्तार कर लिया गया। महंत घटनास्थल वाले घांव में ही छिपा हुआ था। गुरुवार को ही महंत पर इनाम बढ़ाकर 50 हजार कर दिया गया था। पुलिस की मानें तो वह गांव से निकलने की तैयारी में लगा था। इसी दौरान ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस को सौंप दिया।

बदायूं के उघैती थाना क्षेत्र तीन जनवरी की रात 50 वर्षीय आंगनबाड़ी सहायिका की गैंगरेप के बाद हत्या कर दी गई थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में महिला के साथ निर्भया जैसी दरिंदगी का सबूत मिला था। गुप्तांग में रॉड जैसी कोई चीज डालने का मामला सामने आया था। उसकी बाईं पसली, बायां पैर और बायां फेफड़ा भी वजनदार प्रहार से क्षतिग्रस्त कर दिया गया था। महिला के प्राइवेट पार्ट में गंभीर घाव थे। काफी खून भी निकल गया था।

रिपोर्ट में कोई लोहे की रॉड या सब्बल गुप्तांग में ठूंसे जाने की बात भी सामने आई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट देख अफसर हैरत में थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद उघैती पुलिस ने धर्मस्थल के महंत सत्यनारायण दास, उसके सहयोगी वेदराम व यशपाल के खिलाफ दुष्कर्म और हत्या का मुकदमा दर्ज किया था। वेदराम व यशपाल को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। फरार महंत सत्यनारायण दास पर 50 हजार का इनाम घोषित किया गया था।

जांच में पता चला कि पुलिस ने पहले मामले को गंभीरता से नहीं लिया और मामले को हादसा बताती रही। गुरुवार की सुबह आईजी के निर्देश पर इस पूरे मामले में लापरवाह इंस्पेक्टर उघैती रहे राघवेंद्र प्रताप सिंह के खिलाफ धारा 166 ए के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया था। आईजी रेंज राजेश कुमार पांडेय के अनुसार तत्कालीन इंस्पेक्टर के खिलाफ उघैती थाने में 166 ए के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। इंस्पेक्टर की लापरवाही सामने आई है। उसे पहले सस्पेंड किया जा चुका है। आरोपी के खिलाफ विभागीय जांच भी कराई जायेगी।

राजनीतिक दलों का जमावड़ा : सांसद डॉ.संघमित्रा मौर्य, राज्यसभा बीएल वर्मा, विधायक धमेंद्र शाक्य ने पीड़ित परिवार से मुलाकात कर हर संभव सहायता देने, दोषियों पर कड़ी कार्रवाई करने का आश्वासन दिया। सपा का प्रतिनिधि मंडल पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव के नेतृत्व में पीड़ित परिवार से मिला और सीबीआई जांच की मांग, 25 लाख मुआवजा और बेटे को सरकारी नौकरी की मांग उठाई। सरकार को महिला सुरक्षा के प्रति लापरवाह होने का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रशासन पोस्टमार्टम रिपोर्ट को छिपा रहा है।

महिला आयोग की सदस्य पहुंची : राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य चन्द्रमुखी गांव पहुंची और परिवार से मुलाकात कर बोलीं, महिलाओं को लेकर सरकार तो गंभीर है लेकिन अधिकारी नहीं हैं। उघैती कांड पुलिस की लापरवाही का नतीजा है। पुलिस चाहती तो महिला की जान बच सकती थी। राज्य

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it