Top
Begin typing your search...

बुलंदशहर में हुई हिंसा के बाद गिरफ्तार सैफुद्दीन, साजिद, आसिफ और नन्हे निर्दोष, पुलिस रिहा कराने के लिए जायेगी कोर्ट

बुलंदशहर में हुई हिंसा के बाद गिरफ्तार सैफुद्दीन, साजिद, आसिफ और नन्हे निर्दोष, पुलिस रिहा कराने के लिए जायेगी कोर्ट
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बुलंदशहर: उत्तर प्रदेश पुलिस ने कहा है कि बीते दिनों पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गोहत्या के आरोप में गिरफ्तार किए गए चारों युवक निर्दोष हैं. पुलिस अब इन युवकों को जेल से रिहा कराने के लिए कोर्ट जाने की तैयारी कर रही है. बुलंदशहर में हुई हिंसा के बाद लगभग दो हफ्ते पहले सैफुद्दीन, साजिद, आसिफ और नन्हे नाम के चार युवकों को गिरफ्तार किया गया था और प्रथम दृष्टया ये पाया गया है कि ये चारों निर्दोष हैं.

बुलंदशहर के स्याना गांव में कथित गोकशी के बाद फैली हिंसा में पुलिस अधिकारी सुबोध कुमार सिंह समेत सुमित नाम के एक युवक की हत्या कर दी गई थी. हालांकि उत्तर प्रदेश पुलिस सुबोध कुमार सिंह की हत्या के आरोपियों को पकड़ने से पहले कथित गोहत्या के मामले की जांच कर रही है. मामले की जांच कर रही विशेष जांच दल (एसआईटी) द्वारा बीते मंगलवार को गोहत्या मामले में तीन अन्य लोगों को गिरफ्तार करने के बाद इन चारों लोगों को निर्दोष करार देने का फैसला लिया गया.

बुलंदशहर के एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने कहा, 'प्रथम दृष्टया हमने पाया है कि इस मामले में पहले गिरफ्तार किए गए चारों लोग निर्दोष हैं और हम उनको जेल से छुड़वाने के लिए कोर्ट जाएंगे.'चौधरी ने कहा कि पुलिस ने काला, नदीम और रईस नाम के तीन अन्य लोगों को गिरफ्तार किया है. तीनों लोगों की उम्र लगभग 30 साल है. पुलिस ने कहा कि इनके खिलाफ वैज्ञानिक और अन्य सबूत है तधा नदीम के पास से लाइसेंस वाली बंदूक बरामद की गई है.

वहीं बुलंदशहर हिंसा मामले का मुख्य आरोपी बजरंग दल नेता योगेश राज अभी भी फरार है. हिंसा मामले में पुलिस ने अभी तक 18 लोगों को गिरफ्तार किया है.उत्तर पदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स ने बुलंदशहर जिले के स्याना थानाक्षेत्र में हुई हिंसा के सिलसिले में दो वांछित आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया. एसटीएफ प्रवक्ता ने बताया कि सचिन उर्फ कोबरा एवं जानी चौधरी तीन दिसंबर को स्याना में हुई हिंसा के सिलसिले में वांछित थे. प्रवक्ता ने बताया कि मुखबिर से मिली सूचना के आधार पर एसटीएफ नोएडा की टीम ने सचिन और जानी को स्याना थानाक्षेत्र के गठिया बादशाहपुर बस स्टैण्ड से गिरफ्तार किया. उल्लेखनीय है कि बुलंदशहर हिंसा में पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह तथा एक युवक सुमित की मौत हो गयी थी.

Special Coverage News
Next Story
Share it