Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > चित्रकूट > PM मोदी ने बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की आधारशिला रखी, जानें भाषण की 10 बड़ी बातें

PM मोदी ने बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की आधारशिला रखी, जानें भाषण की 10 बड़ी बातें

बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे चित्रकूट के भरतकूप के पास से शुरू होकर बांदा, हमीरपुर, महोबा और औरैया होते हुए इटावा के कुदरैल गांव के पास यमुना एक्सप्रेस-वे से मिलेगा

 Arun Mishra |  29 Feb 2020 11:51 AM GMT  |  दिल्ली

PM मोदी ने बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की आधारशिला रखी, जानें भाषण की 10 बड़ी बातें
x

पीएम मोदी ने चित्रकूट में बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे की आधारशिला रखी. इस दौरान उन्होंने लोगों को संबोधित किया. 14849.09 करोड़ की लागत से बनने वाला यह एक्सप्रेस-वे बुंदेलखंड को दिल्ली से जोड़ेगा. बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे चित्रकूट के भरतकूप के पास से शुरू होकर बांदा, हमीरपुर, महोबा और औरैया होते हुए इटावा के कुदरैल गांव के पास यमुना एक्सप्रेस-वे से मिलेगा. बताया जा रहा है कि एक्सप्रेस-वे के इर्द-गिर्द ही डिफेंस कॉरिडोर को डेवलप किया जाएगा.

पीएम मोदी ने बुंदेलखंडी भाषा में अपने भाषणों की शुरुआत की.

1. पीएम मोदी ने कहा कि भारत रत्न, राष्ट्रऋषि नाना जी देशमुख ने यहीं से भारत को स्वावलंबन के रास्ते पर ले जाने का व्यापक प्रयास शुरु किया था. दो दिन पहले ही नाना जी को उनकी पुण्यतिथि पर देश ने याद किया है. गोस्वामी तुलसीदास ने कहा है कि चित्रकूट के घाट पर संतन की भीड़ हुई. आज आपको देखकर आपके इस सेवक को कुछ-कुछ ऐसी ही अनुभूति हो रही है. चित्रकूट सिर्फ एक स्थान नहीं है, बल्कि भारत के पुरातन समाज जीवन की संकल्प स्थली और तप स्थली भी है.

2. इस धरती ने भारतीयों में मर्यादा के नए संस्कार गढ़े हैं. प्रभु श्रीराम आदिवासियों से, वन्य प्रदेश में रहने वालों से कैसे प्रभावित हुए थे, इसकी कथाएं अनंत हैं. बुंदेलखंड को विकास के एक्सप्रेस-वे पर ले जाने वाला बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे इस क्षेत्र के जन जीवन को बदलने वाला सिद्ध होगा. करीब 15 हजार करोड़ रुपये की लागत से बनने वाला ये एक्सप्रेसवे यहां रोजगार के कई अवसर लाएगा.

3. थोड़ी देर पहले ही यहां देश के किसानों की आय बढ़ाने के लिए, किसानों को सशक्त करने के लिए 10 हज़ार FPO यानि किसान उत्पादक संगठन बनाने की योजना भी लॉन्च की गई है. किसान अब तक उत्पादक तो था ही, अब वो FPO के माध्यम से व्यापार भी करेगा. अब किसान फसल भी बोएगा और कुशल व्यापारी की तरह मोल-भाव करके अपनी उपज का सही दाम भी प्राप्त करेगा.

4. हमारे देश में किसानों से जुड़ी जो नीतियां थीं, उन्हें हमारी सरकार ने निरंतर नई दिशा दी है. उन्हें किसानों की आय से जोड़ा है. सरकार द्वारा सुनिश्चित किया जा रहा है कि किसान की लागत घटे, उत्पादकता बढ़े और उपज के उचित दाम मिले. इसके लिए बीते 5 वर्षों में बीज से बाजार तक अनेक फैसले लिए गए हैं. MSP को डेढ़ गुना करना हो, सॉयल हेल्थ कार्ड हो, यूरिया की 100% नीम कोटिंग हो, दशकों से अधूरी सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करना हो. किसानों की आय बढ़ाने की अहम यात्रा का, आज भी एक अहम पड़ाव है. पीएम किसान सम्मान निधि द्वारा एक वर्ष में देश के करीब 8.5 करोड़ किसान परिवारों के बैंक खातें में सीधे 50,000 करोड़ से अधिक की राशि जमा हो चुकी है.

5. चित्रकूट सहित पूरे यूपी के 2 करोड़ से ज्यादा किसान परिवारों के खाते में भी करीब 12 हज़ार करोड़ रुपये जमा हुए हैं. आप कल्पना कर सकते हैं, 12 हज़ार करोड रुपये, सिर्फ एक वर्ष में. वो भी सीधे बैंक खाते में, बिना बिचौलिए के, बिना किसी भेदभाव के. आपने दशकों में वो दिन भी देखे हैं, जब बुंदेलखंड के नाम पर, किसानों के नाम पर हज़ारों करोड़ के पैकेज घोषित होते थे, लेकिन किसान की जेब तक कुछ नहीं पहुंचता था.

6. अब उन दिनों को हम पीछे छोड़ चुके हैं. दिल्ली से निकलने वाली पाई-पाई उसके हकदार तक पहुंच रही है. जो साथी पीएम किसान योजना के लाभार्थी हैं, उनको पीएम जीवन ज्योति बीमा और पीएम जीवन सुरक्षा बीमा योजना से भी जोड़ा जा रहा है. इससे किसान साथियों को मुश्किल समय में दो लाख रुपये तक की बीमा राशि सुनिश्चित हो जाएगी.

हाल में सरकार ने एक और बड़ा फैसला प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से संबंधित लिया है.

7. अब इस योजना से जुड़ना स्वैच्छिक कर दिया गया है. पहले बैंक से ऋण लेने वाले किसान साथियों को इससे जुड़ना ही पड़ता था, लेकिन अब ये किसान की इच्छा पर निर्भर है. जो साथी पीएम किसान योजना के लाभार्थी हैं, उनको पीएम जीवन ज्योति बीमा और पीएम जीवन सुरक्षा बीमा योजना से भी जोड़ा जा रहा है. इससे किसान साथियों को मुश्किल समय में दो लाख रुपये तक की बीमा राशि सुनिश्चित हो जाएगी. आपने दशकों में वो दिन भी देखे हैं, जब बुंदेलखंड के नाम पर, किसानों के नाम पर हज़ारों करोड़ के पैकेज घोषित होते थे, लेकिन किसान की जेब तक कुछ नहीं पहुंचता था.

8. अब उन दिनों को हम पीछे छोड़ चुके हैं. दिल्ली से निकलने वाली पाई-पाई उसके हकदार तक पहुंच रही है. चित्रकूट सहित पूरे यूपी के 2 करोड़ से ज्यादा किसान परिवारों के खाते में भी करीब 12 हज़ार करोड़ रुपये जमा हुए हैं. आप कल्पना कर सकते हैं कि 12 हज़ार करोड रुपये, सिर्फ एक वर्ष में. वो भी सीधे बैंक खाते में, बिना बिचौलिए के, बिना किसी भेदभाव के.

9. पीएम किसान सम्मान निधि द्वारा एक वर्ष में देश के करीब 8.5 करोड़ किसान परिवारों के बैंक खातें में सीधे 50,000 करोड़ से अधिक की राशि जमा हो चुकी है. इसके लिए बीते 5 वर्षों में बीज से बाजार तक अनेक फैसले लिए गए हैं. MSP को डेढ़ गुना करना हो, सॉयल हेल्थ कार्ड हो, यूरिया की 100% नीम कोटिंग हो, दशकों से अधूरी सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करना हो. किसानों की आय बढ़ाने की अहम यात्रा का, आज भी एक अहम पड़ाव है.

10. हमारे देश में किसानों से जुड़ी जो नीतियां थीं, उन्हें हमारी सरकार ने निरंतर नई दिशा दी है. उन्हें किसानों की आय से जोड़ा है. सरकार द्वारा सुनिश्चित किया जा रहा है कि किसान की लागत घटे, उत्पादकता बढ़े और उपज के उचित दाम मिले. किसान अब तक उत्पादक तो था ही, अब वो FPO के माध्यम से व्यापार भी करेगा. अब किसान फसल भी बोएगा और कुशल व्यापारी की तरह मोल-भाव करके अपनी उपज का सही दाम भी प्राप्त करेगा.

Tags:    
Arun Mishra

Arun Mishra

Arun Mishra


Next Story
Share it