Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > एटा > एटा में अजीबोगरीब मामला सामने आया, जहाँ आबकारी विभाग की चोरी का हुआ खुलासा

एटा में अजीबोगरीब मामला सामने आया, जहाँ आबकारी विभाग की चोरी का हुआ खुलासा

उच्च अधिकारियों ने विभागीय कर्मचारियों की मिली भगत से चोरी कर अवैध तरीके से शराब मफियाओं को बेंच देने के उद्देश्य से आबकारी विभाग के सरकारी गोदाम में ही छिपाकर रखी गयी थी।

 Shiv Kumar Mishra |  14 Aug 2020 7:49 AM GMT  |  एटा

एटा में अजीबोगरीब मामला सामने आया, जहाँ आबकारी विभाग की चोरी का हुआ खुलासा
x

अभितांशु

उत्तर प्रदेश के एटा जनपद में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जिस आबकारी विभाग पर शराब की तस्करी, चोरी, कालाबाजारी आदि रोकने की जिम्मेदारी होती है वही आबकारी विभाग बड़ी संख्या में बीयर की चोरी में लिप्त पाया गया है। संयुक्त आबकारी आयुक्त आगरा जोन रवि शंकर पाठक द्वारा शिकायत पर संयुक्त आबकारी तीन गठित कर एटा में जब छापेमारी की गई तो सरकारी आबकारी विभाग के गोदाम में ही चोरी की गई बड़ी मात्रा में बीयर की केनें बरामद भी हुई। इस मामले में एटा के आबकारी अधिकारी अभय गंगवार ने आई पी सी की धारा 379,411 और 60 एक्साइज एक्ट के तहत कोतवाली नगर एटा में 5 नामजद आबकारी विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। सभी आरोपी अधिकारी और कर्मचारी फरार हो गए हैं ।

एटा जनपद में 10 अगस्त 2020 को अलीगढ़ के अतरौली से कन्नौज जा रहा बीयर से भरा एक ट्रक नेशनल हाइवे 91 पर डिवाइडर से टकराकर पलट गया था। जिसमे बीयर भरी थी। उस बीयर में से ही एटा के आबकारी विभाग ने 255 पेटी बीयर खराब हो जाने और ग्रामीणों द्वारा लूट ले जाने की रिपोर्ट बनाकर विभाग को भेजी थी। परंतु वास्तव में ये बीयर विभाग के ही कुछ उच्च अधिकारियों ने विभागीय कर्मचारियों की मिली भगत से चोरी कर अवैध तरीके से शराब मफियाओं को बेंच देने के उद्देश्य से आबकारी विभाग के सरकारी गोदाम में ही छिपाकर रखी गयी थी।

इस बात की भनक की जानकारी किसी ने संयुक्त आबकारी आयुक्त आग्रग जोन रवि शंकर पाठक को दे दी। जिसपर अलर्ट हुए आबकारी आयुक्त ने आबकारी विभाग की एक संयुक्त जांच टीम बनाकर एटा में 11 अगस्त को छापेमारी करवाई। इस संयुक्त आबकारी विभाग की छापामार टीम में सहायक आबकारी आयुक्त आगरा डीके गुप्ता, सहायक आबकारी आयुक्त प्रवर्तन ,आगरा सतीश चंद्र,आबकारी निरीक्षक आगरा वीर प्रताप सिंह,आबकारी निरीक्षक आगरा राजीव माथुर व अन्य लोग शामिल थे।

इन्होंने शिकायत पर एटा पहुंच कर जैसे ही आबकारी विभाग के भांग के गोदाम में छापा मारा तो उसमें बीयर के पलटे हुए ट्रक से चोरी की गई 776 बीयर की केनें बरामद किए ली गयी। इस बीच आबकारी जांच टीम के आने की सूचना लीक होने पर बहुत सारी बीयर केनों से फैला दी गयी।

जान आबकारी विभाग की संयुक्त जांच टीम ने पड़ताल की तो पता चला कि आबकारी विभाग एटा के अधिकारियों और कर्मचारियों की मिली भगत से ही ये बीयर की केनें चुराई गयी थी और विभाग को ये झूंठी रिपोर्ट बनाकर भेज दी थी कि 255 बीयर की पेटियां ट्रक पलटने से खराब हो गयी और ग्रामीणों ने लूट ली।

इस मामले में संयुक्त आबकारी आयुक्त आबकारी,आगरा जोन रवि शंकर पाठक के निर्देश पर एटा के जिला आबकारी अधिकारी अभय गंगवार ने एटा बीयर चोरी और उसको सरकारी गोदाम में छिपाने के आरोप में एटा के आबकारी इंस्पेक्टर रणविजय सिंह, आरक्षी टीपू सुल्तान, जितेंद्र दीक्षित,योगेश और आबकारी विभाग के पूर्व कर्मचारी मुसर्रत के खिलाफ एटा कोतवाली नगर में आईपीसी की धारा 379,411 और 60 एक्साइज एक्ट के तहत कोतवाली नगर,एटा में बीती रात मुकदमा पंजीकृत करा दिया है। पुलिस इस पूरे मामले की विवेचना कर रही है। फिलहाल सभी नामजद आरोपी फरार हैं।

Tags:    
Next Story
Share it