Top
Begin typing your search...

UP में पाकिस्तानी महिला बन गई ग्राम प्रधान, अधिकारियों ने पद से हटाया, जांच शुरू

उत्तर प्रदेश के एटा जिले में एक पाकिस्तानी महिला के ग्राम प्रधान बनने का मामला सामने आया है।

UP में पाकिस्तानी महिला बन गई ग्राम प्रधान, अधिकारियों ने पद से हटाया, जांच शुरू
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

एटा : उत्तर प्रदेश के एटा जिले में एक पाकिस्तानी महिला के ग्राम प्रधान बनने का मामला सामने आया है। इस बारे में जानकारी मिलते ही पदाधिकारियों ने महिला को पद से हटा दिया है और मामले की जांच शुरू कर दी है।

अधिकारियों ने बताया कि एक 65 वर्षीय पाकिस्तानी नागरिक को अंतरिम ग्राम प्रधान के पद से हटा दिया गया है। महिला जिले के जलेसर गांव की प्रधान थी। 40 साल पहले भारतीय नागरिक से शादी होने के बाद कराची से एटा आई महिला लॉन्ग टर्म वीजा पर भारत में रह रही थी। उसने कई बार भारतीय नागरिकता हासिल करने के लिए आवेदन भी दिया था।

इस घटना के संबंध में जिला पंचायती राज अधिकारी आलोक प्रियदर्शी ने बताया कि मजिस्ट्रेट सुखलाल भारती ने जांच के आदेश दे दिए हैं। उन्होंने कहा कि निवार्चन के लिए एक पाकिस्तानी नागरिक बानो बेगम को आधार कार्ड और अन्य दस्तावेज कैसे मिल गए और वह ग्राम पंचायत सदस्य के रूप में चुन भी ली गई। इतना ही नहीं, बाद में वे अंतरिम ग्राम प्रधान भी बनी। इन सभी मामलों की जांच की जा रही है। सुखलाल भारती ने मामले में पुलिस को केस दर्ज करने का आदेश भी दिया है।

महिला की शादी एटा निवासी अख्तर अली से 40 साल पहले हुई थी। तभी से वह भारत में रह रही हैं। मामले में शिकायत दर्ज कराने वाले स्थानीय निवासी ने कहा कि वे बिना अधिकार के ग्राम प्रधान के रूप में काम कर रही थीं क्योंकि वह एक पाकिस्तानी नागरिक हैं। उन्होंने कहा, '2015 के स्थानीय निकाय चुनावों में बानो बेगम को ग्राम पंचायत सदस्य के रूप में चुना गया था। इसी साल 9 जनवरी को ग्राम प्रधान (प्रमुख) शहनाज बेगम का निधन हो गया। इसी के बाद से वे अंतरिम ग्राम प्रधान के रूप में काम कर रही हैं।'

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it