Top
Begin typing your search...

बाबरी मस्जिद पक्षकार इकबाल अंसारी बोले, 'मंदिर-मस्जिद मुद्दा बाद में पहले पाकिस्तान को निपटाना जरूरी'

बाबरी मस्जिद पक्षकार इकबाल अंसारी बोले, मंदिर-मस्जिद मुद्दा बाद में पहले पाकिस्तान को निपटाना जरूरी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा पाकिस्तान के खिलाफ ऐसी कार्रवाई जरूरी थी.

अयोध्या : भारत के एयर सर्जिकल स्ट्राइक पर बाबरी मस्जिद पक्षकार इकबाल अंसारी ने बड़ा बयान दिया है. अंसारी ने कहा कि रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद मुद्दा भारत का है. इसको तो बाद में निपटा लेंगे. पहले पाकिस्तान से निपटना जरूरी है. अंसारी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ करते हुए कहा पाकिस्तान के खिलाफ ऐसी कार्रवाई जरूरी थी.

वहीं मुस्लिम पैरोकार हाजी महबूब ने कहा- टिट फार टैट. जैसे को तैसा जवाब देना ही चाहिए, मुल्क की बात है हम मुल्क के साथ. अच्छा हो तो बुरा हो तो भी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की. कहा जो कुछ भी किया अच्छा किया.

गौरतलब है कि भारतीय वायुसेना ने खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के बिनाह पर जैश-ए-मोहम्मद के सबसे बड़े प्रशिक्षण शिविर पर बुधवार तड़के मिराज 2000 लड़ाकू विमान से हमला किया गया. इस हमले की जानकारी देते हुए भारत के विदेश सचिव विजय गोखले ने कहा कि गोपनीय सूत्रों से जानकारी मिली थी कि जैश-ए-मोहम्मद देश के विभिन्न हिस्सों में एक और आत्मघाती आतंकी हमले को अंजाम देने की कोशिश कर रहा था और फिदायीन जिहादियों को प्रशिक्षित किया जा रहा था. इस संभावित खतरे को रोकने के लिए, यह प्रहार अनिवार्य हो गया था.

गोखले ने बताया इस ऑपरेशन में, बहुत बड़ी संख्या में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी, कमांडर, प्रशिक्षक और आतंकी हमलों के प्रशिक्षण के लिए आये हुए जिहादियों का सफाया कर दिया गया. बालाकोट की इस आंतकी प्रशिक्षण संस्था का नेतृत्व जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मौलाना मसूद अजहर का साला मौलाना यूसुफ अजहर उर्फ उस्ताद गौरी कर रहा था.

उन्होंने बताया कि इस गैर-सैन्य कार्रवाई को विशेष रूप से जैश-ए-मोहम्मद शिविर पर ही केन्द्रित किया गया था. वायुसेना ने अपने हमले के ठिकानों का चयन करते समय इसका ध्यान रखा था कि इसमें जन हानि न हो. यह प्रशिक्षण केंद्र आबादी वाले इलाके से दूर एक घने जंगल में पहाड़ी पर स्थित था.


Next Story
Share it