Top
Begin typing your search...

7 दशक बाद रामलला को आज लगेगा 56 भोग, जल्द शुरू होगा मंदिर का निर्माण!

जानकारी के मुताबिक उम्मीद है कि 2 अप्रैल 2020 (रामनवमी) पर मंदिर निर्माण शुरू हो सकता है.

7 दशक बाद रामलला को आज लगेगा 56 भोग, जल्द शुरू होगा मंदिर का निर्माण!
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अयोध्या मामले में सप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद राम मंदिर निर्माण का रास्ता साफ हो गया है. वहीं 9 फरवरी के पहले केंद्र सरकार राममंदिर ट्रस्ट का गठन कर देगी. जानकारी के मुताबिक उम्मीद है कि 2 अप्रैल 2020 (रामनवमी) पर मंदिर निर्माण शुरू हो सकता है.

वहीं आज नए साल के पहले दिन रामलला को 56 तरह के फल-मेवे और पकवान का भोग लगाया जाएगा. रामलला विराजमान के मुख्य पुजारी सत्येंद्र दास का कहना है कि कोर्ट में 70 साल केस चलने के बाद पहली बार रामलला को 56 भोग लग रहा है. आज उन्हें हरे रंग के नए वस्त्र पहनाने का दिन है.

राम जन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास जी ने कहा- यूं तो छप्पन भोग का प्रसाद हर वर्ष प्रभु को चढ़ता है, लेकिन साल के पहले दिन चढ़ना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है।

उन्होंने कहा कि जल्द ही राम मंदिर का निर्माण शुरू होने वाला है। सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को 3 महीने का समय दे रखा है जिसकी अवधि बहुत ही जल्द समाप्त होने वाली है। हमारे रामलला को नया घर मिलने वाला है। इसी खुशी में आज उनको छप्पन भोग का प्रसाद चढ़ाया गया है। प्रसाद चढ़ाने के बाद सारे भक्तों में वितरित होगा।

साल के पहले दिन रामलला और हनुमानगढ़ी के दर्शन करने करीब 70 हजार से ज्यादा श्रद्धालु पहुंचने की उम्मीद है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद यहां रोज करीब 18 हजार लोग आ रहे हैं। पहले संख्या 10-12 हजार होती थी। यहां हर 15 दिन में दानपेटी खोली जाती है। इसमें चढ़ावा पहले से दोगुना होकर 6 लाख रुपए तक पहुंच गया है। अयोध्या के सभी होटल और धर्मशालाएं दो दिन पहले से ही फुल हैं।

Arun Mishra

About author
Sub-Editor of Special Coverage News
Next Story
Share it