Top
Begin typing your search...

अयोध्या : हनुमानगढ़ी के संतों ने विवादित ढांचे के विध्वंस की बरसी पर मनाया विजय उत्सव, 1100 दीपक जलाए

अयोध्या : हनुमानगढ़ी के संतों ने विवादित ढांचे के विध्वंस की बरसी पर मनाया विजय उत्सव, 1100 दीपक जलाए
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

अयोध्या के प्रसिद्ध सिद्ध पीठ हनुमानगढ़ी की सीढिय़ां दीपों की टिमटिमाहट से जगमगा उठीं।

अयोध्या से संदीप श्रीवास्तव की रिपोर्ट

अयोध्या : धार्मिक नगरी में विवादित ढांचे के विध्वंस की 26 वीं बरसी के मौके पर जहां पूरे दिन कहीं शौर्य दिवस तो कहीं काला दिवस आयोजन मनाए जाते रहे और पूरी अयोध्या सुरक्षा घेरे में जकड़ी रही। और शाम होते - होते अयोध्या में सामान्य स्थिति होने लगी। तभी देर शाम अयोध्या के प्रसिद्ध सिद्ध पीठ हनुमानगढ़ी की सीढिय़ां पर दीपों की टिमटिमाहट से जगमगा उठीं। हनुमानगढ़ी के संतों ने विवादित ढांचे के ध्वंस को विजय उत्सव के रूप में मनाते हुए 1100 दीप जलाकर खुशी जाहिर की।

हनुमानगढ़ी के नागा संतों ने हनुमानगढ़ी की सीढिय़ों पर दीपक जलाकर अपनी खुशी को जाहिर किया। नागा संत राजू दास ने बताया कि आज का दिन हमारे लिए गर्व करने का दिन है। आज हमने सदियों से भारत मां के सीने पर लगे कलंक को मिटाने का काम किया था और प्रत्येक वर्ष हम इस दिन को याद कर शौर्य दिवस और विजय दिवस के रूप में मनाते हैं।



उसी कड़ी में इस वर्ष भी हनुमंत लला के दरबार को दीपों से सजा दिया गया है। हम पवनसुत हनुमान जी महाराज से यह प्रार्थना करते हैं कि बहुत जल्द अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण हो और यह विजय उत्सव हम राम जन्मभूमि पर मनाएं।



Next Story
Share it