Top
Begin typing your search...

फिल्म स्टार मुकेश खन्ना, रजा मुराद और शायर नदीम फार्रुख के खिलाफ गाजियाबाद में केस दर्ज

फिल्म स्टार मुकेश खन्ना, रजा मुराद और शायर नदीम फार्रुख के खिलाफ वाइक वोट घोटाले में केस दर्ज किया गया है.

फिल्म स्टार मुकेश खन्ना, रजा मुराद और शायर नदीम फार्रुख के खिलाफ गाजियाबाद में केस दर्ज
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

ग्रेटर नोएडा : गाजियाबाद जिला अदालत के आदेश के बाद बाइक बोट फर्जीवाड़े के मुख्य आरोपी संजय भाटी और बीएन तिवारी समेत 14 के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है. संजय भाटी अभी जेल में बंद है.

FIR में चौदह लोंगों में फिल्म स्टार मुकेश खन्ना, रजा मुराद और शायर नदीम फार्रुख के भी नाम शामिल हैं। तीनों पर बाइक बोट के दादरी स्थित दफ्तर में आकर कंपनी में निवेश के लिए निवेशकों को लुभाने के आरोप हैं। इन लोंगों के खिलाफ केस दर्ज होने से हडकम्प मच गया है। पीड़ितों का कहना है कि इतनी बड़ी हस्तियों के आने से हमें कंपनी ठीक लगी।

बता दें कि वाइक वोट कंपनी के केस का खुलासा तत्कालीन नोएडा एसएसपी वैभव कृष्ण ने किया था। इस केस में सैकड़ों गाड़ियाँ बरामद हुई है जो आज भी नोएडा कोर्ट की सम्पत्ति बन चुकी है. इस केस में कई हजार करोड़ का घोटाला हुआ था। इस केस का खुलासा तब हुआ जब वाइक वोट कंपनी का मुख्य कर्ता धर्ता संजय भाटी गौतमबुद्धनगर लोकसभा क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी का उम्मीदवार घोषित हो गया। तो विपक्षी उम्मीदवारों को लगा कि इतनी अकूत सम्पत्ति का मालिक है भाटी तो इसके खिलाफ कैसे लड़ा जाएगा चुनाव?

उसी समय जब इसकी छानबीन हुई तो यह सब घपला सामने आया जिसमें कई पीड़ित अपने भुगतान को लेकर कंपनी ऑफीस के चक्कर लगा रहे थे। इन सभी पीड़ितों को लेकर कई लोग जिले के आलाधिकारियों के पास गये और यह फर्जीवाड़े की शिकायत की जिससे इनके खिलाफ कार्यवाही हुई।

इस केस में कई लोग जेल जा चुके है। अब इस केस की जांच ईडी के द्वारा भी की जा रही है। बीते दिनों भी ईडी ने इनके खिलाफ दिल्ली में भी केस दर्ज कराया गया है।

3500 करोड़ रुपये के बाइक बोट घोटाले में यूपी पुलिस की आर्थिक अपराध एवं अनुसंधान शाखा (ईओडब्लू) ने फरार सात आरोपियों पर 50-50 हजार रुपये का इनाम घोषित कर दिया है। इनकी गिरफ्तारी के लिए संभावित स्थानों पर दबिश दी जा रही है।

साल-2019 में बाइक बोट घोटाले में नोएडा में दर्ज हुए 56 मुकदमों की जांच 14 फरवरी 2020 से ईओडब्लू मेरठ कर रही है। इस मामले में 13 आरोपी जेल जा चुके हैं, जबकि सात आरोपी फरार हैं। ईओडब्लू के एक अधिकारी ने बताया, आरोपियों पर 25 हजार रुपये का इनाम था, जो अब बढ़ाकर 50 हजार कर दिया है। ये सभी गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड के डायरेक्टर हैं। इनमें मास्टरमाइंड संजय भाटी की पत्नी दीप्ति बहल निवासी कंकरखेड़ा मेरठ, भाई सचिन भाटी निवासी लोनी गाजियाबाद समेत किरनपाल निवासी डिफेंस कॉलोनी गंगानगर मेरठ, रेखा रानी व उसके पति रविंद्र कुमार निवासी जालंधर, ललित निवासी मैदीपुर मवाना मेरठ और भूदेव निवासी बहलीमपुरा बुलंदशहर हैं।

यह हो चुके गिरफ्तार

बाइक बोट कंपनी का मालिक संजय भाटी, संजय गोयल, विजयपाल कसाना, विनोद कुमार, विशाल कुमार, हरीश कुमार, राजेश यादव, राजेश भारद्वाज, विनोद, पुष्पेंद्र, सुनील, आदेश भाटी और सुनील कुमार फिलहाल जेल में हैं।

ऐसे हुआ था घोटाला

गर्वित कंपनी ने बाइक बोट नाम से एक पौंजी स्कीम लांच की। एक बाइक की कीमत 62 हजार 200 रुपये निवेश करने पर प्रतिमाह 9,765 रुपये सालभर तक लौटाने का झांसा दिया। इस तरह देशभर के लोगों से ठगी हुई। इस मामले में करीब साढ़े पांच सौ मुकदमे दर्ज हैं। ईडी अलग से जांच कर रही है। यह केस सीबीआई को जाने की संभावना है।

ललित पंडित
Next Story
Share it