Top
Home > राज्य > उत्तर प्रदेश > गाजियाबाद > कांग्रेस ने डॉली शर्मा को उम्मदीवार घोषित कर गाजियाबाद में बीजेपी के सामने पेश की चुनौती

कांग्रेस ने डॉली शर्मा को उम्मदीवार घोषित कर गाजियाबाद में बीजेपी के सामने पेश की चुनौती

 Special Coverage News |  19 March 2019 9:28 AM GMT  |  गाजियाबाद

कांग्रेस ने डॉली शर्मा को उम्मदीवार घोषित कर गाजियाबाद में बीजेपी के सामने पेश की चुनौती

आखिरकार मंथन के बाद कांग्रेस ने गाजियाबाद में अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया है। समाजवादी पार्टी (सपा) ने जातिगत आंकड़ों के आधार पर ब्राह्मण कार्ड खेलते हुए सुरेंद्र कुमार मुन्नी को अपना प्रत्याशी घोषित किया था। कांग्रेस ने भी ब्राह्मण प्रत्‍याशी डॉली शर्मा को अपना उम्‍मीदवार बनाया है। डॉली शर्मा हाल में ही हुए मेयर का चुनाव भी लड़ चुकी हैं। उनके पिता कांग्रेस के महानगर अध्यक्ष भी हैं। डॉली शर्मा की घोषणा होने के बाद से ही कार्यकर्ता बेहद उत्साहित हैं।


डॉली शर्मा ने कहा कि मेरा उद्देश्य गाजियाबाद को एक विकसित शहर बनाने का और इस इलाके में शिक्षा , स्वास्थ्य और सुरक्षा को लेकर कुछ नया करना है। जिस तरह लोग गाजियाबाद में चुने हुए सांसद को लापता होने की रिपोर्ट दर्ज कराते हों तब में आपकी शहर की बेटी आपके लिए हर समय और हर पल आपकी सेवा में तत्पर रहकर काम करना चाहती हूँ। आप सबने मुझे मेयर के चुनाव में भी भरपूर सहयोग किया उसी तरह इस बार सहयोग कर जीत करायें।

डॉली शर्मा ने बचपन से ही राजनीति को बड़े करीब से देखा है। उनके पिता नरेंद्र भारद्वाज कांग्रेस के पुराने नेता रहे हैं। वर्तमान में वह महानगर अध्यक्ष हैं। डॉली शर्मा ने बताया कि उनका जन्म गाजियाबाद में 30 अक्टूबर 1984 को हुआ था। उन्होंने स्कूल की पढ़ाई ग्रीन फील्ड स्कूल चंद्र नगर गाजियाबाद में की थी। उन्होंने वसुंधरा स्थित जयपुरिया इंस्टीट्यूट से एमबीए किया है। उसके बाद उन्होंने ऑल इंडिया मैनेजमेंट एसोसिएशन लोधी रोड दिल्ली से एचआर में डिप्लोमा किया। उन्हें म्यूजिक और समाजसेवा का बचपन से ही शौक रहा है। उन्होंने बताया कि अक्सर वह अपने पिता का राजनीति में भी साथ देती थी, जो उन्हें बहुत अच्छा लगता था। उन्‍होंने कभी यह नहीं सोचा था कि वह राजनीति में भी आएंगी।


उन्होंने बताया कि 25 नवंबर 2007 को उनकी शादी गाजियाबाद के ही रहने वाले उद्यमी दीपक शर्मा के साथ हुई। उनका 5 साल का बेटा अथर्व शर्मा भी है। डॉली शर्मा का कहना है कि उनके पति ने उनकी रुचि को ध्यान में रखते हुए उन्हें राजनीति में जाने के लिए प्रेरित किया। इसी कारण उन्होंने नगर निगम में मेयर का चुनाव लड़ा था। इस बार भी पति दीपक शर्मा के कहने पर ही सांसद के चुनाव के लिए टिकट की दावेदारी पेश की थी। उनका इस मामले में भी पूरा समर्थन है।

डॉली शर्मा के टिकट होने के बाद से राजनीतिक समीकरण अब बदलते हुए नजर आ रहे हैं। उन्‍होंने मेयर का चुनाव भी बहुत अच्छे ढंग से लड़ा था। माना जा रहा है। कि इस बार भी वह गाजियाबाद की जनता को लुभाने में कामयाब होंगी। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के महासचिव बिजेंद्र यादव का कहना है कि वह सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के अलावा कांग्रेस के सभी आला नेताओं का दिल से धन्यवाद अदा करना चाहते हैं।


इस बार उन्होंने नौजवान प्रत्याशी को टिकट देकर चुनाव लड़ने का अवसर दिया है। वह जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने वाली मजबूत प्रत्याशी हैं। इतना ही नहीं डॉली शर्मा सभी कार्यकर्ताओं की पसंदीदा नेता हैं। इस बार निश्चित तौर पर भारतीय जनता पार्टी और गठबंधन के प्रत्याशियों को परास्त कर गाजियाबाद में अपना परचम लहराते हुए जोरदार जीत हासिल करेंगी।

Tags:    
स्पेशल कवरेज न्यूज़ से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें न्यूज़ ऐप और फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
Next Story
Share it