Top
Begin typing your search...

बेटे ने बुजुर्ग माता-पिता को घर से निकलने का सुनाया फरमान, वीडियो वायरल.. डीएम गाजियाबाद ने दिलाया न्याय

इस विडियो में उन्होंने आरोप लगाया कि उनका अभिषेक ग्रोवर और बहू 10 दिन के भीतर उन्हें उनके ही घर से निकलने का अल्टीमेटम दे चुके हैं।

बेटे ने बुजुर्ग माता-पिता को घर से निकलने का सुनाया फरमान, वीडियो वायरल.. डीएम गाजियाबाद ने दिलाया न्याय
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

गाजियाबाद : यूपी के जनपद गाजियाबाद में एक कलयुगी बेटे ने अपने माता-पिता को उनके ही घर से निकलने को कहा दिया और घर पर कब्जा जमा लिया। हालांकि, सोशल मीडिया की ताकत कहें कि अब इस बुजुर्ग को अपना घर वापस मिल रहा है। दरअसल, बुजुर्ग पति-पत्नी का रोता हुआ विडियो वायरल हुआ था जिसके बाद स्थानीय प्रशासन हरकत में आया और एसडीएम व सीओ ने परिवार से मिलकर विवाद का निपटारा करवाया।

घटना अंकुर विहार की जहां इंद्रजीत ग्रोवर (68) अपनी पत्नी (68) के साथ रहते हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक विडियो जारी किया। इस विडियो में उन्होंने आरोप लगाया कि उनका अभिषेक ग्रोवर और बहू 10 दिन के भीतर उन्हें उनके ही घर से निकलने का अल्टीमेटम दे चुके हैं।


विडियो में इंद्रजीत न्याय की अपील कर रहे हैं जबकि उनके साथ बैठी उनकी पत्नी रोती नजर आ रही हैं। इंद्रजीत ने कहा, 'मैं अपने ही पैसे से खरीदे मकान में रहता हूं। मैं हार्ट पेशंट हूं जबकि पत्नी का नी-रिप्लेसमेंट हुआ है और वह अर्थराइटिस की मरीज है। मेरी एक बेटी है जो विवाहित है। मेरा एक ही बेटा है और वह व उसकी पत्नी हमें हमारे ही घर से निकाल रहे हैं और उनका कहना है कि हम जीएं या मरें उन्हें कोई लेना देना नहीं।'



इंद्रजीत ने विडियो में अपील की, 'मैंने डीएम को भी चिट्ठी लिखी है। मुझे मेरे लालची बेटे से मुक्ति दिलाई जाए और मेरा मकान खाली कराया जाए।' यह कहते हुए इंद्रजीत भी सिसकने लगते हैं। उन्होंने कहा, 'बेटे-बहू हमपर झूठे केस लगा रहे हैं ताकि हम खुदकुशी कर लें।'

उधर, एसडीएम और सीओ से मुलाकात के बाद बेटे ने लिखित समझौते में भरोसा दिया कि वह अपनी पिता की इच्छानुसार 10 दिन के भीतर अपने परिवार सहित किराए के मकान में रहने चला जाएगा। इस लिखित समझौते की कॉपी गाजियाबाद की डीएम ने ट्विटर पर शेयर की है।

Special Coverage News
Next Story
Share it